विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) के दिल्ली स्थित मुख्यालय से ग्रीनफील्ड कैटगरी में उत्कृष्ट संस्थानों (आईओई) के लिए आए प्रस्तावों की फाइलों में से चार गायब हो गई हैं. मानव संसाधन मंत्रालय ने जुलाई में छह उत्कृष्ट संस्थानों की एक सूची जारी की थी. इसमें ग्रीनफील्ड कैटेगरी में रिलायंस फाउंडेशन की जिओ यूनिवर्सिटी को उत्कृष्ट संस्थान का दर्जा मिला था. ग्रीनफील्ड कैटेगरी में उस संस्थान को चुना जाना था जिनकी स्थापना आने वाले दिनों में होनी है.

मानव संसाधन मंत्रालय के पास ग्रीनफील्ड कैटेगरी के लिए 11 संस्थानों के प्रस्ताव आए थे. द प्रिंट ने यूजीसी से सूचना के अधिकार (आरटीआई) के तहत इन संस्थानों से आए प्रस्तावों की जानकारी मांगी तो उसे बताया गया कि इनमें से चार संस्थानों के अावेदन की फाइलें खो गई हैं. जिन चार संस्थानों की फाइलें खो गई हैं उनमें भारती एयरटेल लिमिटेड की सत्या भारती फाउन्डेशन, इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस हैदराबाद, द महाराष्ट्र इंस्टीट्यूट ऑफ टेक पुणे और द इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक हेल्थ गांधीनगर शामिल हैं. यूजीसी ने बताया कि शेष सात संस्थानों की फाइलें उसके पास सुरक्षित हैं.

मानव संसाधन मंत्रालय ने जुलाई माह में देश के छह संस्थानों को आईओई की सूची में शामिल किया था. इस सूची में सरकारी संस्थानों में आईआईटी बॉम्बे, आईआईटी दिल्ली, और इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस बेंगलुरू शामिल थे. वहीं निजी संस्थानों में बीआईटीएस पिलानी, मनीपाल यूनिवर्सिटी और जिओ यूनिवर्सिटी का नाम शामिल था. इस सूची में शामिल होने वाले संस्थानों को केंद्र सरकार की तरफ से विशेष वित्तीय मदद और अधिक स्वायत्तता मिलेगी.