इंसानों के लिए कुत्तों को सबसे वफादार जानवरों में से एक माना जाता है और इस बात से सभी लोग वाकिफ हैं ही. लेकिन क्या आपको यह भी मालूम है कि कुत्ता पालने वाले लोगों को दिल संबंधी बीमारियां होने का खतरा कम रहता है और जो लोग कुत्ता पालते हैं उनमें तनाव का स्तर भी कम पाया जाता है.

द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक इन बातों का दावा एक अध्ययन में किया गया है. स्वीडन के एक चिकित्सा विज्ञानी टोव फाल के नेतृत्व 40 से 80 साल की उम्र के करीब 34 लाख लोगों पर हुए अध्ययन से ये बातें साबित हुई है. टोव फाल के मुताबिक, ‘कुत्ता पालने वाले लोगों का सामाजिक संवाद का दायरा बड़ा होता है और ऐसे लोग कहीं अधिक सक्रिय भी होते हैं. कुत्ता पालने की वजह से आम लोगों की तुलना में ऐसे लोग कहीं अधिक पैदल चलते हैं. इस वजह से इन्हें दिल संबंधी बीमारियां होने का खतरा कम रहता है.’

टोव का यह भी कहना है, ‘कुत्ता पालने वालों को किसी बीमारी की वजह से अगर अस्पताल में दाखिल होना पड़े उन्हें अपने पालतू की वजह से वापस अपने घर लौटने के लिए भी प्रेरणा मिलती है.’ इस अध्ययन के मुताबिक यूरोप के दूसरे देशों की तुलना में स्वीडन में कुत्ता पालने वालों की संख्या काफी कम है. टोव को उम्मीद है कि कुत्ता पालने के लाभों के बारे में पता चलने के बाद लोगों में इसके प्रति दिलचस्पी बढ़ेगी.