उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग द्वारा कराई जा रही ट्यूबवेल ऑपरेटर की परीक्षा रद्द कर दी गई है. यह परीक्षा बीते रविवार को आयोजित होनी थी, लेकिन इस बीच शनिवार को ही सोशल मीडिया पर इस परीक्षा के हिंदी विषय का पर्चा लीक हो गया. इसके बाद आयोग ने यह परीक्षा रद्द करने की घोषणा कर दी. खबरों के मुताबिक पुलिस ने पहले अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था, लेकिन बाद में इस मामले में 11 लोगों को हिरासत में लिया गया है.

बिजनेस स्टैंडर्ड ने मेरठ जोन के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक प्रशांत कुमार के हवाले से बताया कि इस मामले में 11 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. इनका मुख्य साजिशकर्ता सचिन पेशे से अध्यापक है. प्रशांत कुमार ने बताया कि आरोपितों के पास से 15 लाख नगद, मोबाइल फोन और कुछ कागजात बरामद किए हैं.

आयोग के अध्यक्ष सीबी पालीवाल ने इस घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि जिस एजेंसी को पर्चे प्रिंट करने के लिए दिया गया था, उसकी जांच की जायेगी. उन्होंने बताया कि आयोग इस मामले की जांच के लिए गठित टास्क फोर्स की रिपोर्ट का इंतजार कर रहा है. रिपोर्ट आने के बाद ही कोई कार्रवाई की जायेगी. पालीवाल ने बताया कि इस परीक्षा के लिए नई तारीख की अधिसूचना जल्द ही जारी की जायेगी.