‘ऐसा लगता है कि भाजपा खुद ही जांच एजेंसी की भूमिका में आ गई है.’  

— मनीष तिवारी, कांग्रेस के प्रवक्ता

मनीष तिवारी का यह बयान भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की तरफ से कांग्रेसी नेताओं के नक्सलवादियों के साथ संबंध होने के आरोपों पर पलटवार करते हुए आया है. उनका कहना है कि पुलिस के सबूत भाजपा के पास कैसे आ जाते हैं, इसकी जांच कराई जानी चाहिए. मनीष तिवारी के मुताबिक जिस कागज के दम पर भाजपा, कांग्रेस के नेताओं पर आरोप मढ़ रही है पहले उसकी प्रमाणिकता सिद्ध की जानी चाहिए. इससे पहले मंगलवार को एक प्रेस वार्ता के दौरान एक चिट्ठी का हवाला देते हुए भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने नक्सलवाद को लेकर कांग्रेस पर दोहरा रवैया अपनाने की बात कही थी. इसके साथ ही उन्होंने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह पर नक्सलवादियों के साथ संबंध होने और उन्हें वित्तीय मदद पहुंचाने के आरोप लगाए थे.


‘एससी-एसटी एक्ट पर राजनीतिक दलों को खुले मन से पुनर्विचार करना चाहिए.’  

— कलराज मिश्रा, भारतीय जनता पार्टी के सांसद

कलराज मिश्रा का यह बयान एससी-एसटी एक्ट के दुरुपयोग को लेकर आया है. उनका कहना है कि इस एक्ट का बेजा इस्तेमाल करते हुए निर्दोष लोगों को फर्जी मुकदमों में फंसाया जा रहा है. इसकी वजह से जहां सरकारी कर्मचारी खुद को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं वहीं समाज में भी असमानता का भाव पैदा हो रहा है. कलराज मिश्रा का यह भी कहना है कि वे इस एक्ट के विरोध में नहीं हैं लेकिन वास्तविकता के धरातल पर सही और गलत का पता लगाते हुए एससी-एसटी एक्ट में बदलाव होना चाहिए और ऐसा होने से किसी निर्दोष को परेशानी नहीं होगी.


‘2019 के अंत तक पांच लाख सामुदायिक और 67 लाख पारिवारिक इकाइयों के शौचालय बना लिए जाएंगे.’  

— हरदीप सिंह पुरी, केंद्रीय आवास एवं शहरी विकास राज्य मंत्री

हरदीप सिंह पुरी ने यह बात मंगलवार को नई दिल्ली नगर पालिका (एनडीएमसी) द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान कही है. उनके मुताबिक शौचालयों के इस्तेमाल को लेकर शहरी क्षेत्रों के साथ ग्रामीण इलाकों में भी व्यावहारिक बदलाव दिखने लगे हैं. सार्वजनिक और घर में बने शौचालयों के इस्तेमाल से जहां महिला सशक्तिकरण और कन्याओं के आत्मसम्मान को बढ़ावा मिला है तो वहीं शहरों में इससे साफ-सफाई और स्वच्छता की दिशा में भारी सहायता मिली है.


‘पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने जहां बात छोड़ी थी केंद्र सरकार को वहीं से पाकिस्तान के साथ बातचीत शुरू करनी चाहिए’  

— महबूबा मुफ्ती, जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री

महबूबा मुफ्ती का यह बयान जम्मू-कश्मीर के ताजा हाल को लेकर आया है. उनका ऐसा मानना है कि भारत और पाकिस्तान के बीच शांति बहाली को लेकर बातचीत होने से अंतरराष्ट्रीय सीमा पर होने वाली गोलाबारी और घाटी में हिंसा के माहौल में तब्दीली आएगी. महबूबा मुफ्ती के मुताबिक भारत-पाकिस्तान को विकास की दिशा में बढ़ने के लिए पहले आपसी शांति कायम करनी होगी.


‘यूपीए सरकार की तरह एनडीए के शासन में भी आम जनता खुद को पीड़ित महसूस कर रही है.’  

— अरविंद केजरीवाल, दिल्ली के मुख्यमंत्री

अरविंद केजरीवाल का यह बयान केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर पेट्रोल और डीजल के बढ़ते दामों पर निशाना साधते हुए आया है. उनका यह भी कहना है कि पेट्रोल-डीजल के दामों में लगातार 10वें दिन बढ़ोतरी होने के बावजूद प्रधानमंत्री इसमें कोई हस्तक्षेप नहीं कर रहे हैं. अरविंद केजरीवाल मुताबिक महंगाई को काबू करने में भी मौजूदा केंद्र सरकार पूरी तरह नाकाम साबित रही है.