‘भारतीय जनता पार्टी चाहती है कि समाज में झगड़ा हो और उसका लाभ उठाकर वह सत्ता में वापसी करे.’  

— अखिलेश यादव, समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष

अखिलेश यादव ने यह बात समाजवादी पार्टी (सपा) की एक बैठक के दौरान सवर्ण संगठनों द्वारा गुरुवार को बुलाए गए भारत बंद को लेकर कही है. उनके मुताबिक भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) किसी को चैन से नहीं जीने देना चाहती और वह समाज के अलग-अलग वर्गों और जातियों को तोड़कर सत्ता में वापसी की इच्छा रखती है. अखिलेश यादव ने इस दौरान बढ़ती महंगाई और नोटबंदी को लेकर भी केंद्र की भाजपा सरकार पर निशाना साधा.


‘समलैंगिकता की आड़ में देश की प्रमुख समस्याओं से लोगों का ध्यान हटाया जा रहा है.’  

— मार्कण्डेय काटजू, सर्वोच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश

मार्कण्डेय काटजू ने यह बात फेसबुक पर एक पोस्ट में लिखी है. सुप्रीम कोर्ट की तरफ से समलैंगिकता को अपराध न माने जाने के फैसले के साथ उन्होंने अपनी सहमति जताई है. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि समलैंगिक अधिकारों की स्थापना ही देश की सबसे बड़ी समस्या नहीं है. किसानों की बेहाली, गरीबी, कुपोषण, भुखमरी, बेराजगारी, शिक्षा, स्वास्थ्य सुविधाओं के अलावा ईंधन के बढ़ते दामों जैसी चुनौतियों का हल तलाशने पर जोर दिया जाना चाहिए. समलैंगिकता पर जरूरत से ज्यादा जोर दिए जाने को मार्कण्डेय काटजू ने देश के मुख्य मुद्दों से लोगों का ध्यान भटकाने की रणनीति भी कहा है.


‘रक्षा क्षेत्र में सहयोग बढ़ने से भारत-अमेरिका के आपसी संबंधों में और मजबूती आएगी.’  

— निर्मला सीतारमण, केंद्रीय रक्षा मंत्री

निर्मला सीतारमण का यह बयान, भारत और अमेरिका के रक्षा और विदेश मंत्रियों के बीच गुरुवार को हुई बैठक के बाद आया है. इस इस बैठक में दोनों देशों के बीच कम्यूनिकेशन एंड इंफॉर्मेशन आॅन सिक्योरिटी मेमोरेंडम आॅफ एग्रीमेंट (सीओएमसीएसीए) पर हस्ताक्षर हुए हैं. यह ऐसा समझौता है जो अमेरिका सिर्फ अपने सहयोगी देशों के साथ करता है. इस समझौते से भारत को रक्षा क्षेत्र में उन्नत तकनीक मिलेगी.


‘रुपये पर बड़े बोल बोलने वाले आज चुप्पी साधकर बैठे हैं.’  

— रणदीप सिंह सुरजेवाला, कांग्रेस के प्रवक्ता

रणदीप सिंह सुरजेवाला का यह बयान गुरुवार को डॉलर के मुकाबले में रुपये में 37 पैसे की गिरावट आने के बाद इसके 72 रुपये के पार चले जाने को लेकर आया. उनका यह भी कहना है कि भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार के शासन में देश की अर्थव्यवस्था बदहाल स्थिति में पहुंच गई है और महंगाई के अलावा पेट्रोल-डीजल के दामों में हो रहे इजाफे से भी आम जनता त्रस्त है.


‘मुझे मुस्लिम और दलितों ने नहीं बल्कि सवर्णों ने विधायक बनाया है. सवर्णों के लिए हर कुर्बानी देने को तैयार हूं.’  

— सुरेंद्र सिंह, भाजपा विधायक

सुरेंद्र सिंह का यह बयान सवर्ण संगठनों की तरफ से गुरुवार को बुलाए गए भारत बंद को लेकर आया है. इस दौरान उन्होंने यह भी कहा, ‘एससी-एसटी एक्ट के मुद्दे पर मैं सवर्णों के साथ हूं. सवर्ण वर्ग अगर मुझे विधायक पद से इस्तीफा देने के लिए कहेगा तो मैं इसके लिए भी तैयार हूं.’ उत्तर प्रदेश में बैरिया के विधायक ने इस दौरान भारत बंद का खुलकर समर्थन करते हुए अन्य प्रदर्शनकारियों के साथ प्रदर्शन भी किया.


‘भारत बंद के नाम पर हमें जाति पूछकर पीटा गया.’  

— पप्पू यादव, जन अधिकार पार्टी के नेता

पप्पू यादव ने यह बात ट्विटर पर एक वीडियो शेयर करते हुए कही है. उनके मुताबिक अपनी पार्टी के कुछ कार्यकर्ताओं के साथ वे एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए बिहार के मधुबनी जा रहे थे. इसी दौरान भारत बंद के कुछ समर्थकों ने उन पर हमला कर दिया. उनका यह भी कहना है कि उनके साथी कार्यकर्ताओं को प्रदर्शनकारियों ने उनकी जाति पूछकर पीटा. सवर्ण संगठनों की तरफ से गुरुवार को बुलाए गए बंद के दौरान बिहार के कुछ इलाकों से हिंसा की खबरें आई थीं.