जापान की 20 वर्षीय टेनिस खिलाड़ी नाओमी ओसाका शनिवार को अमेरिकी ओपन के फाइनल मुकाबले में सेरेना विलियम्स से भिड़ेंगी. नाओमी ओसाका ग्रेंड स्लैम के फाइनल में पहुंचने वाली जापान की पहली महिला खिलाड़ी हैं. बीबीसी से बात करते हुए नाओमी ओसाका ने कहा है, ‘मैंने बचपन से ही सेरेना के खिलाफ ग्रैंड स्लैम फाइनल मुकाबले में खेलने का सपना देखा था और अब मुझे इस मैच का आनंद लेना चाहिए. मुझे इसे टूर्नामेंट के एक अन्य मैच के रूप में देखना चाहिए.’ इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वे फाइनल मैच में सेरेना विलियम्स को आदर्श के रूप में नहीं बल्कि एक विरोधी के रूप में देखेंगी.

नाओमी ओसाका ने महिला एकल वर्ग के सेमीफाइनल में पिछले साल की उपविजेता अमेरिका की मेडिसन कीज को सीधे सेटों में 6-2, 6-4 से हराकर फाइनल में जगह बनाई. इसके बाद दूसरे सेमीफाइल में सेरेना विलियम्स ने लातविया की खिलाड़ी एनास्तासीजा सेवास्तोवा को सीधे सेटों में 6-3, 6-0 से मात देकर अमेरिकी ओपन के फाइनल में नवीं बार जगह बनाई है. फाइनल के रोचक मुकाबले में जहां नाओमी ओसाका को सेरेना विलियम्स से भिड़ने का इंतजार है, वहीं सेरेना को 24वां ग्रैंड स्लैम खिताब अपने नाम करने इंतजार है.