केरल और पूर्वोत्तर के राज्यों के बाद अब उत्तर प्रदेश में भी भारी बारिश और बाढ़ का असर दिख रहा है. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक बीते 24 घंटों के दौरान उत्तर प्रदेश के विभिन्न इलाकों में बारिश और बाढ़ से तीन लोगों की मौत हो गई साथ ही करीब 232 घर तबाह हो गए हैं. प्रदेश में गंगा, यमुना और घाघरा के अलावा इसकी सहायक नदियां भी उफान पर हैं.

राज्य सरकार के एक अधिकारी के मुताबिक उन्नाव, कानपुर और फर्रूखाबाद में चौबीसों घंटे राहत और बचाव का काम किया जा रहा है. इस अधिकारी का यह भी कहना है, ‘सड़कों पर पानी भरा होने की वजह से बचाव कार्यों में कठिनाई आ रही है. बारिश रुकने और सड़कों पर इकट्ठा हुए पानी के निकलने के बाद राहत के काम में तेजी आएगी.’ प्रशासन ने जानकारी दी है कि बाढ़ से पैदा होने वाली बीमारियों जैसे बुखार, टायफाइड, हैजा आदि से बचाव के लिए इन इलाकों में मेडिकल कैंप बनाने की तैयारी भी चल रही है.

इससे पहले शुक्रवार को हवाई दौरे के जरिये राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का जायजा लिया था. उधर शुक्रवार को ही भारतीय मौसम विभाग ने अगले तीन दिनों तक उत्तर प्रदेश समेत राजस्थान, उत्तराखंड, दिल्ली व बिहार के अलावा पूर्वोत्तर के कुछ राज्यों में भारी बारिश होने का पूर्वानुमान जारी किया था.