अक्षय कुमार के मामले में यह तो कहा ही जा सकता है कि वे अपने एक्टिंग करियर के इस मुकाम पर अपने पैरों पर चलकर पहुंचे हैं. फिल्मों में आने से पहले इस दुनिया से अक्षय कुमार का दूर-दूर तक कोई नाता नहीं था और न ही यहां पर उनका कोई गॉडफादर ही रहा है. इसके साथ ही, मजे-मजे में यह भी कहा जा सकता है कि इस चलने की शुरुआत उन्होंने हाथों के बल की थी जिसकी वजह साल 1991 में आई उनकी पहली फिल्म ‘सौगंध’ का एक दृश्य है. हीरो की एंट्री वाले इस सबसे खास सीन में अक्षय कुमार हाथों के बल चलते हुए आते हैं और फिर काफी देर तक जबरदस्त फाइटिंग करते दिखाई देते हैं. उस समय उन्हें देखने वालों के मुंह से यह जरूर निकला होगा - क्या लड़ता है बॉस!

सौगंध के अपने पहले ही दृश्य से अक्षय कुमार यह बता देते हैं कि वे यहां क्या करने आए हैं. इसके बाद आने वाले सालों में वे यही करते भी रहे और खिलाड़ी कुमार कहलाए. ‘सौगंध’ में ज्यादातर वक्त वे फाइटिंग करते हुए ही नजर आते हैं और केवल इन्हीं दृश्यों में प्रभावित भी कर पाते हैं. शायद यही वजह रही कि इसके बाद उन्हें केवल एक्शन फिल्मों के ही ऑफर मिले. गुड लुक्स और चौड़ी मुस्कान के बावजूद यहां उनके अभिनय में वजन नहीं दिखता. आज अभिनय के मामले में अक्षय कुमार उतने कच्चे तो नहीं हैं, लेकिन ‘सौगंध’ में उनके अभिनय से यह अंदाजा लगाना मुश्किल होता है कि आने वाले वक्त में यह अभिनेता तीनों खानों से टक्कर लेते हुए अपनी एक अलग पहचान बना सकेगा.

इस फिल्म में अक्षय कुमार जिस तरह से संवाद बोलते हैं, उसमें एक किस्म का अक्खड़पन दिखता है. यहां पर उनका यह अंदाज जरा खटकता है, हालांकि सफल होने के बाद इस स्टाइल में कॉन्फिडेंस और शामिल हो गया और अब अक्षय का यह अंदाज उनका स्वैग कहा जाता है. खिलाड़ी सीरीज की फिल्मों से लेकर थैंक्यू, ओह माय गॉड, गोल्ड तक कमोबेश उनकी हर फिल्म में नजर आने वाले उनके इस अंदाज की झलक ‘सौगंध’ में देखकर लगता है कि छोटे शहरों की शैली में बोलने वाला यह लड़का बी-ग्रेड या मारधाड़ करने वाली फिल्मों के लिए ही फिट साबित होगा.

उस समय यह शायद ही किसी ने सोचा हो कि आने वाले वक्त में न सिर्फ यह चेहरा कॉमेडी, एक्शन और रोमांस वाली मसाला फिल्मों में सफल होगा बल्कि अपने शानदार अभिनय के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार से भी सम्मानित किया जाएगा. ‘सौगंध’ को देखकर यह सोच पाना तो लगभग नामुमकिन ही रहा होगा कि कभी अक्षय कुमार की तुलना गुजरे जमाने के अभिनेता मनोज कुमार से करते हुए उन्हें नए ‘भारत कुमार’ का संबोधन दे दिया जाएगा.