अलवर लिंचिंग मामले में मारे गए रकबर खान के परिवारवालों ने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दाखिल की है. इस याचिका में इस मामले का ट्रायल (निचली अदालत में होने वाली सुनवाई) राजस्थान से बाहर कराने के अलावा स्थानीय पुलिस की जांच को अदालत की देखरेख में कराए जाने की अपील की गई है. द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक सोमवार को यह याचिका स्वीकार करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने इस पर सुनवाई के लिए 17 सितंबर की तारीख तय की है.

अलवर के लालवंडी इलाके में लिंचिंग (भीड़ द्वारा हमला या हत्या) की यह घटना इसी साल 28 जुलाई को घटी थी. तब गाय की तस्करी के संदेह में लोगों के एक समूह ने 32 वर्षीय रकबर उर्फ अकबर खान और उसके दोस्त असलम पर हमला कर दिया था. इस घटना में रकबर खान बुरी तरह घायल हुए था जबकि उनके साथी असमल को कुछ चोटें आई थीं. खबरों के मुताबिक सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने घायल रकबर को अस्पताल पहुंचाने में देरी की थी जिससे उनकी मौत हो गई थी.

लिंचिंग के इस मामले में राजस्थान पुलिस ने बीते हफ्ते ही अलवर की एक निचली अदालत में चार्जशीट दाखिल की थी. 25 पन्नों की इस चार्जशीट में पहले से ही गिरफ्तार किए गए धर्मेंद्र, परमजीत और नरेश नामक तीन लोगों को मुख्य आरोपित बनाया गया है. इन तीनों पर भारतीय दंड संहिता की धारा 302 के तहत हत्या के अलावा कई अन्य धाराओं के तहत भी आरोप लगाए गए हैं.