भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष अमित शाह मंगलवार को राजस्थान के जयपुर पहुंचे हैं. यहां नेशनल सिटिजंस रजिस्टर (एनआरसी) के मुद्दे पर अपने प्रमुख विरोधी दल कांग्रेस पर निशाना साधते हुए अमित शाह ने कहा है, ‘कांग्रेस को जितना विरोध करना हो करे, भाजपा का संकल्प है कि देश में एक भी बांग्लादेशी घुसपैठिये को नहीं रहने देंगे. इन्हें चुन-चुनकर निकालेंगे.’ अमित शाह के मुताबिक एनआरसी के मुद्दे पर कांग्रेस इसलिए भी विरोध करती है क्योंकि इनमें उसका वोट बैंक छुपा हुआ है.

इसके साथ ही पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा है कि जब भी देश में चुनाव होते हैं तो उसके पहले ‘अखलाक’ या ‘अवॉर्ड वापसी’ के तौर पर भाजपा के लिए बाधाएं खड़ी करने की कोशिशें की जाती हैं. इसके बावजूद पूर्व में हुए चुनावों में भाजपा ने जीत दर्ज की है और अब इस साल होने वाले राज्य विधानसभा के चुनावों में भी पार्टी उस जीत को दोहराएगी.

साल 2015 में 50 वर्षीय मोहम्मद अखलाक के घर पर गाय का मांस होने के संदेह में लोगों की भीड़ ने उनकी हत्या कर दी थी. उत्तर प्रदेश के दादरी की उस घटना को अहसिष्णुता को बढ़ावा देने वाली बताते हुए चर्चित साहित्यकारों ने अपने सम्मान-पुरस्कार लौटाने शुरू कर दिए थे. उस घटना का हवाला देते हुए अमित शाह ने कहा है, ‘विरोधियों द्वारा ऐसी घटनाओं के उछालने के बावजूद भाजपा विधानसभा चुनाव में जीत हासिल करेगी क्योंकि इस जीत के लिए पार्टी के हर कार्यकर्ता ने दृढ़ निश्चय कर रखा है.’

पार्टी कार्यकर्ताओं से उन्होंने आगे कहा, ‘इस साल के अंत में चार राज्यों के विधानसभा चुनाव से आगामी आम चुनाव की दिशा तय होगी. इसलिए बुनियादी स्तर पर उन्हें अपना सर्वस्व लगा देने की जरूरत है.’ पार्टी कार्यकर्ताओं में जोश भरते हुए उन्होंने यह भी कहा, ‘राजस्थान में भाजपा की सरकार अंगद के पांव की तरह है जिसे कोई उखाड़ नहीं सकता.’