अफगानिस्तान के जलालाबाद में हुए एक आत्मघाती हमले में 22 लोगों की मौत हो गई है. साथ ही इस हमले 23 अन्य लोगों के घायल होने की खबर भी है. द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक पाकिस्तान की सीमा से सटे इस इलाके में मंगलवार को यह हमला उस वक्त हुआ जब लोगों का एक समूह यहां के हाईवे पर विरोध-प्रदर्शन के लिए इकट्ठा हुआ था. स्थानीय अधिकारियों के मुताबिक आत्मघाती हमलावरों ने प्रदर्शन कर रहे लोगों को ही निशाना बनाया था. साथ ही यह हमला उस वक्त किया गया जब मौके पर सैकड़ों की संख्या में लोग एकत्र हो चुके थे.

स्थानीय खबरों के मुताबिक फिलहाल किसी संगठन ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है. ऐसी संभावनाएं जताई जा रही हैं कि इस हमले के पीछे इस्लामिक स्टेट (आईएस) के लड़ाकों का हाथ हो सकता है. साल 2015 के बाद से इस इलाके में आईएस ने अपने पांव काफी गहराई तक जमा लिए हैं. उधर, अफगानिस्तान के नंगरहर प्रांत में आने वाला जलालाबाद शहर इस साल की शुरुआत से ही आतंकवादियों के निशाने पर रहा है.

इसी साल जुलाई के महीने में जलालाबाद के शिक्षा विभाग के दफ्तर पर एक आतंकी हमला हुआ था. उस हमले में 10 लोगों की जान गई थी. इसके अलावा जुलाई के महीने में ही जलालाबाद में हमलावरों ने एक वाहन को निशाना बनाया था जिसमें 20 लोग मारे गए थे. उस घटना में मरने वालों में सिख समुदाय के एक शीर्ष नेता भी शामिल थे. तब भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उस हमले की निंदा करते हुए उसे अफगानिस्तान की बहुसांस्कृतिक संरचना पर हमला बताया था.