रुपये में गिरावट इस कदर जारी है कि अब यह आम बात लगने लगी है. हालांकि केंद्र सरकार के लिए यह चिंताजनक है. मंगलवार को एक डॉलर की तुलना में रुपये की कीमत 72.69 रुपये थी. आज सुबह विदेशी मुद्रा बाजार खुलते ही यह 22 पैसे और गिरा और प्रति डॉलर के मुकाबले 72.91 रुपये के नए निचले स्तर पर पहुंच गया. यह डॉलर के मुकाबले रुपये का अब तक सबसे खराब प्रदर्शन है.

खबरों के मुताबिक व्यापार युद्ध के चलते कई देशों के बैंकों और आयातकों में डॉलर की मांग लगातार बढ़ रही है, खास तौर पर तेल कारोबार से जुड़े देशों में. इस कारोबार से जुड़े लोगों का कहना है कि कच्चे तेल के दाम बढ़ने की वजह से भी रुपये पर दबाव बना हुआ है. वहीं, बाजार से विदेशी धन का निकलना भी इसका एक प्रमुख कारण है. सरकार भी रुपये गिरने और तेल के दाम बढ़ने के पीछे यही दलीलें दे रही है.

हालांकि इस बीच शेयर बाजार से अच्छी खबर है. सेंसेक्स आज 133.29 अंकों की बढ़ोतरी के साथ 37,546.42 पर कारोबार कर रहा है. निफ्टी भी 33 अंक बढ़ा है. फिलहाल यह 11,290 अंकों के साथ कारोबार कर रहा है. इससे पहले मंगलवार को शेयर बाजार गिरावट के साथ बंद हुआ था. सेंसेक्स में जहां 500 अंकों की गिरावट आई, वहीं, निफ्टी भी 150 अंक गिरकर बंद हुआ था.