भारत और फ्रांस सरकार के बीच हुए रफाल सौदे पर लगातार विपक्ष के हमलों के बीच बुधवार को भारतीय वायु सेना प्रमुख बीरेंद्र सिंह धनोआ ने रफाल सौदे का समर्थन किया है. वायु सेना प्रमुख ने रफाल को भारतीय वायु सेना की जरूरत बताते हुए इस सौदे को बेहतरीन बताया है. उनके मुताबिक रफाल के अलावा रूस से खरीदे जा रहे मिसाइल डिफेंस सिस्टम एस-400 से वायु सेना की शक्ति में इजाफा होगा. बीरेंद्र सिंह धनोआ ने कहा, ‘आज हमारे पास 42 की जगह केवल 31 बेड़े ही हैं. हमारे दोनों तरफ परमाणु शक्ति संपन्न देश (चीन और पाकिस्तान) हैं. अगर 42 बेड़े भी हों तो भी दो तरफ की जंग लड़ना आसान नहीं होगा.’

उधर, कांग्रेस और दूसरे विपक्षी दल रफाल सौदे को लेकर मोदी सरकार पर लगातार हमलावर हैं. उनका आरोप है कि सरकार ने यह सौदा यूपीए सरकार की तुलना में तीन गुना ज्यादा कीमत पर किया है. इसके साथ ही विपक्षी पार्टियों ने मोदी सरकार पर आरोप लगाए हैं कि यह सौदा कर्ज में डूबे एक कारोबारी को फायदा पहुंचाने के लिए भी किया गया है. उधर, सरकार इससे इनकार करती रही है.