देश के अलग-अलग हिस्सों में करीब तीन दर्जन हत्याएं करने के आरोपित आदेश कामरा ने कहा है कि उसे अपने पिता से कभी प्यार नहीं मिला जिसने उसे एक सीरियल किलर बना दिया. पेशे दर्जी से रहे आदेश पर महाराष्ट्र से लेकर छत्तीसगढ़ तक अलग-अलग जगहों पर 33 ट्रक ड्राइवरों की हत्याएं करने का आरोप है.

टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक कामरा ने भोपाल के एसपी (दक्षिण) लोढा राहुल कुमार को बताया, ‘कोई मेरा ध्यान नहीं रखता था. मैं एक अंतर्मुखी व्यक्ति बन गया था. मेरे अंदर इतना गुस्सा था कि मुझे पता ही नहीं चला कि कब मैं हिंसक आदमी बन गया.’ आदेश ने पुलिस को बताया कि उसके पिता गुलाब कामरा सेना में नायब सूबेदार थे जो घर में भी सेना जैसा अनुशासन रखते थे.

आदेश के बयानों को लेकर एसपी राहुल कुमार ने बताया, ‘उसने कहा कि जब वह बच्चा था तो उसके पिता काफी सख्त थे. वे उसे मारते और छोटी-छोटी बातों के लिए घर से निकाल देते थे.’ एसपी के मुताबिक यह हत्यारा बचपन में मानसिक यातना का शिकार रहा है. अधिकारी ने कहा कि हो सकता है कि उसी वजह से यह हिंसक बन गया और बिना पछतावे के एक के बाद एक हत्याएं करता गया.

हालांकि पुलिस आदेश के भावुक बयान पर ध्यान नहीं दे रही. उसके मुताबिक आदेश बहुत शातिर है. पुलिस ने बताया कि वह किसी को भी शिकार बनाने से पहले उससे दोस्ती करता था. उसके सारे बयानों की जांच की जा रही है. इस दौरान पुलिस को पता चला है कि आदेश का आपराधिक इतिहास 2005-06 तक जाता है. तब उसने जबरन वसूली करना शुरू किया था. अभी तक माना जा रहा था कि उसने 2010 से अपराध करना शुरू किया था.