पंजाब के एक खेतिहर मजदूर की ज़िंदगी रातों-रात बदल गई. वह भी उधार में लिए गए 200 रुपए के लॉटरी टिकट के जरिए. बीती 30 अगस्त को इस टिकट पर उसने 1.5 करोड़ रुपए का इनाम जीता. इसके बाद से ही लगातार उसके पास प्रॉपर्टी, बैंक और बीमा कंपनियों के एजेंटों की लाइन लगी हुई है. ये उसे लाखों रुपए के निवेश के लुभावने प्रस्ताव दे रहे हैं.

द टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक लॉटरी टिकट से करोड़पति बनने वाले मजदूर का नाम मनोज कुमार है. वे 40 साल के हैं और संगरूर जिले के मांडवी में रहते हैं. कुछ दिनों पहले तक आलम ये था कि मनोज पत्नी राज कौर के साथ मिलकर मेहनत-मजदूरी से बमुश्किल 250 रुपए रोज कमा पाते थे. गरीबी की वजह से वे अपने पिता- हवा सिंह का ठीक तरह इलाज नहीं करा पाए. इससे कुछेक महीने पहले पिता का साया सर से उठ गया. थोड़ी-बहुत बचत थी वह पिता के इलाज में खर्च हो गई.

इसी बीच उसने ज़िंदगी में पहली बार लॉटरी टिकट खरीदने का विचार किया. पड़ाेसी से 200 रुपए उधार लेकर टिकट ख़रीद भी लिया. आज उसी एक टिकट ने मनोज और उसके परिवार की ज़िंदगी बदल दी है. मनोज की तीन बेटियां हैं. इनमें सबसे बड़ी ने अभी इसी साल 12वीं की परीक्षा पास की है. परिवार की आर्थिक हालत अच्छी नहीं थी इसलिए वह संगरूर में नौकरी ढूंढने की तैयारी में थी. पर अब मनोज ने उसे आगे निश्चिंत होकर पढ़ने के लिए कह दिया है ताकि पुलिस में भर्ती हो सके.

हालांकि मनोज को अब भी थोड़ा अफसोस है कि अगर यही करिश्मा कुछ पहले हो गया होता वे शायद अपने पिता को बचा पाते. अलबत्ता अब राज्य सरकार की ‘राखी बंपर लॉटरी’ से मिले इनाम के बाद उन्हाेंने अपने परिवार की बेहतरी और तरक्की की योजनाएं बनानी तो शुरू कर ही दी हैं. वे फिलहाल खेती की ज़मीन खरीदने और छोटा-मोटा कारोबार शुरू करने की सोच रहे हैं. कच्चे मकान को छोड़कर नया आशियाना बनाना भी उनकी भविष्य की योजनाओं में शामिल है.