जम्मू-कश्मीर में भारत-पाकिस्तान की अंतरराष्ट्रीय सीमा पर स्मार्ट बाड़ (फेंसिंग) लगाए जाने वाले पायलट प्रोजेक्ट का काम पूरा हो गया है. द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक इसी महीने की 17 तारीख को केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह इस परियोजना का औपचारिक उद्घाटन करेंगे. राज्य के कठुआ जिले में लगाई गई करीब 10 किलोमीटर लंबाई वाली यह बाड़ किस तरह अपना काम करेगी, इस मौके पर इसे लेकर एक प्रस्तुति भी दी जाएगी.

इजरायल की तर्ज पर कॉम्प्रिहेंसिव इंटीग्रेटेड बॉर्डर मैनेजमेंट सिस्टम (सीआईबीएमएस) के तहत अंतरराष्ट्रीय सीमा पर स्मार्ट बाड़ लगाने का काम पिछले साल से शुरू किया गया था. देश की सीमा को सुरक्षित बनाने के ​साथ पड़ोसी देश से होने वाली घुसपैठ को रोकना इस परियोजना का मुख्य लक्ष्य है.

स्मार्ट बाड़ परियोजना के तहत सीमा सुरक्षा के लिए आधुनिक उपकरणों का इस्तेमाल किया गया है. कंटीले तारों के साथ इसमें लेजर बीम की एक अदृश्य दीवार खड़ी की गई है और क्लोज सर्किट कैमरों (सीसीटीवी) के साथ अंडर ग्राउंड सेंसर्स भी लगाए गए हैं. ऐसे में अगर कोई व्यक्ति इस बाड़ को पार करने की कोशिश करता है तो केंद्रीय निगरानी प्रणाली के पास फौरन इसकी जानकारी पहुंच जाएगी. इससे सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के जवान तुरंत मौके पर जवाबी कार्रवाई कर सकेंगे.

स्मार्ट बाड़ की इस महत्वाकांक्षी परियोजना को लेकर बीते हफ्ते बीएसएफ के महानिदेशक केके शर्मा ने कहा था कि पायलट प्रोजेक्ट पूरा होने के बाद इस योजना को पाकिस्तान ही नहीं बल्कि भारत-बांग्लादेश सीमा पर भी क्रियान्वित किया जाएगा. माना जा रहा है कि आतंकवादियों के अलावा अनधिकृत तौर पर देश में प्रवेश करने की कोशिश करने वालों पर भी इसके जरिये रोक लगाने में बड़ी कामयाबी हासिल हो सकेगी.