प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को मध्य प्रदेश के इंदौर में दाऊदी बोहरा समाज के कार्यक्रम में पहुंचे. यहां की सैफी मस्जिद में हजरत इमाम हुसैन की शहादत की याद में ‘अशर-ए-मुबारका’ कार्यक्रम आयोजित हो रहा है. इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बोहरा समाज के 53वें धर्मगुरु सैयदना मुफद्दल सैफुद्दीन से भी मुलाकात की. कार्यक्रम में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी शामिल हुए.

इस दौरान प्रधानमंत्री ने यहां आए लोगों को संबोधित करते हुए कहा, ‘अशरा मुबारक के इस पवित्र अवसर पर आपने मुझे यहां आने का मौका दिया, इसके लिए बहुत आभार.’ उन्होंने इमाम हुसैन को याद करते हुए कहा कि इमाम हुसैन, अमन और शांति के लिए शहीद हुए थे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का यह भी कहना था कि शांति, सद्भाव, सत्याग्रह और राष्ट्रभक्ति में बोहरा समाज की भूमिका हमेशा महत्वपूर्ण रही है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि बोहरा समाज से उनका रिश्ता बहुत पुराना है. उनका कहना था, ‘मैं एक प्रकार से बोहरा समाज का सदस्य बन गया हूं. मेरे दरवाजे भी इस परिवार के लिए हमेशा खुले हुए हैं.’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह भी कहा कि शायद ही गुजरात में कोई ऐसा गांव हो जहां बोहरा समाज का व्यापारी न मिले. इस दौरान प्रधानमंत्री ने लोगों को केंद्र सरकार की चार साल की उपलब्धियां भी गिनवाईं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पहले कार्यक्रम में अपने संबोधन में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बोहरा समाज की शांतिप्रियता और तरक्की की तारीफ करते हुए कहा कि अगर अपने मुल्क से मुहब्बत करने वाला, दूसरों की मदद करने वाला और अनुशासित अगर कोई समाज है तो वो बोहरा समाज ही है. उन्होंने कहा कि इंदौर सबसे साफ-सुथरी जगह है, इसमें बोहरा समुदाय का योगदान है. बोहरा समुदाय के धर्मगुरु सैयदना मुफद्दल सैफुद्दीन को मध्य प्रदेश सरकार ने राजकीय अतिथि का दर्जा दिया हुआ है. अपने 20 दिवसीय कार्यक्रम के दौरान सैयदना मुफद्दल सैफुद्दीन धार्मिक प्रवचन देंगे और तीन मस्जिदों का उद्घाटन भी करेंगे. सैयदना मुफद्दल सैफुद्दीन का प्रवचन सुनने के लिए 40 देशों से तकरीबन 1.7 लाख लोगों के इंदौर पहुंचने की संभावना है.