रेप पीड़ित नन की फोटो सार्वजनिक करने के लिए केरल पुलिस ने शुक्रवार को जालंधर स्थित मिशनरीज ऑफ जीसस के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है. द टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक इस संस्था ने एक प्रेस रिलीज जारी की थी. इसके साथ तीन साल पुराने एक आयोजन की एक फोटो भी थी जिसमें पीड़ित नन आरोपित बिशप फ्रेंको मुलक्कल के साथ बैठी हैं. प्रेस रिलीज में यह भी कहा गया था कि संस्था की अंदरूनी जांच में बिशप के खिलाफ लगाए गए आरोप बेबुनियाद पाए गए हैं और पीड़ित नास्तिकों के साथ मिलकर साजिश कर रही है.

कोयट्टम के एसपी हरि शंकर ने बताया कि पीड़ित के भाई की शिकायत पर मिशनरीज ऑफ जीसस के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 228 ए के तहत केस दर्ज किया है जो पीड़ित की पहचान सार्वजनिक करने को अपराध ठहराती है. वहीं केरल महिला आयोग की अध्यक्ष एमसी जोसेफिन ने कहा कि फोटो सार्वजनिक करने पर संस्था के खिलाफ कठोर कानूनी कार्रवाई की जानी चाहिए.

यह मामला अब केरल हाई कोर्ट में है. अदालत में दायर हलफनामे में पुलिस का दावा है कि उसके पास बिशफ के खिलाफ पुख्ता सबूत हैं. उसने यह भी कहा है कि नन के साथ कई बार बलात्कार हुआ है. हालांकि, बिशप अपने ऊपर लगाए आरोपों को लगातार खारिज करते आए हैं.