चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर सक्रिय रूप से राजनीति में आ गए हैं. रविवार को उन्होंने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) का दामन थाम लिया. पटना में हुई जेडीयू कार्यकारिणी की बैठक में खुद नीतीश कुमार ने उन्हें पार्टी की सदस्यता दिलाई. इससे पहले रविवार सुुुुबह प्रशांत किशोर ने एक ट्वीट कर बताया था कि बिहार से शुरु होने वाली अपनी नई यात्रा के लिए वे उत्साहित हूं.

बीते हफ्ते उन्होंने इस बात के संकेत दिए थे कि वे सक्रिय राजनीति में अा सकते हैं. हैदराबाद में ‘इंडियन स्कूल अॉफ बिजनेस’ में छात्रों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा था, ‘2019 में मैं किसी पार्टी के प्रचार का जिम्मा नहीं संभालूंगा. मैं गुजरात या बिहार में जमीनी स्तर से काम करना चाहता हूं.’

किशोर का संगठन ‘इंडियन पॉलिटिकल एक्शन कमेटी’ फिलहाल आंध्र प्रदेश में वाईएसआर कांग्रेस के लिए काम कर रही है. प्रशांत किशोर 2014 के लोकसभा चुनाव के बाद उस समय चर्चा में आए थे जब उन्होंने भाजपा के प्रचार का काम संभाला था. चुनाव में भाजपा की जीत के बाद वे भाजपा से अलग हो गए थे और बिहार में जेडीयू और राजद गठबंधन के प्रचार की कमान संभाली थी. इसके बाद उत्तर प्रदेश और पंजाब के चुनावों में उन्होंने कांग्रेस के लिए काम किया.