मुंबई प्रादेशिक कांग्रेस समिति (एमआरसीसी) के अध्यक्ष संजय निरूपम ने कहा है कि इस पद पर उनके बने रहने या हटाए जाने का फैसला पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी करेंगे. सोमवार को मीडिया से बातचीत करते हुए खुद को राहुल गांधी का वफादार बताते हुए संजय निरूपम ने कहा है, ‘एमआरसीसी अध्यक्ष का पद सौंपते हुए राहुल गांधी ने मुझ से मुंबई के लोगों के मुद्दों को उठाने के लिए कहा था. उनके निर्देशों का पालन करते हुए मैं हर दूसरे दिन मुंबई की गलियों में यहां के लोगों के बीच पहुंचता हूं.’ उन्होंने आगे कहा, ‘जब तक मेरे पास मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी रहेगी मैं ऐसा करता रहूंगा.’

उधर, समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक संजय निरूपम का यह बयान रविवार को कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं की एक बैठक के मद्देनजर आया है. इस बैठक में महाराष्ट्र के कुछ नेताओं ने अखिल भारतीय कांग्रेस समिति (एआईसीसी) के महासचिव मल्लिकार्जुन खड़गे से मुलाकात करके संजय निरूपम को इस पद से हटाने और यह जिम्मेदारी पार्टी सांसद मिलिंद देवड़ा को दिए जाने की मांग की थी. बताया जा रहा है कि नेतृत्व में बदलाव संबंधी यह मांग आगामी लोक सभा व राज्य विधानसभा चुनाव को देखते हुए की गई है. संजय निरूपम के प्रति असंतोष जताने वाले इन नेताओं का यह भी कहना है कि महाराष्ट्र में कांग्रेस के अच्छे प्रदर्शन के लिए पार्टी को अनुभवी व युवा चेहरे की जरूरत है. इस लिहाज से मिलिंद देवड़ा उपयुक्त विकल्प साबित होंगे.