केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने भी अब स्वीकार किया है कि देश में तेल की कीमतें ऊंचे स्तर पर पहुंच गई है. इसके साथ ही उनका यह भी कहना है, ‘ मैं समझता हूं कि इस वजह से लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है.’ एनडीटीवी के मुताबिक मंगलवार को मुंबई में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान नितिन गडकरी ने यह भी कहा, ‘मुझे जानकारी मिली है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दामों में जल्दी ही कमी आने की उम्मीद जताई गई है.’ हांलाकि केंद्रीय मंत्री को यह जानकारी किस स्रोत के जरिये मिली, इस बारे में उन्होंने कुछ नहीं कहा.

इससे पहले मंगलवार को तेल के दामों में बढ़ोतरी होने के बाद मुंबई में पेट्रोल की कीमत 90 रु के करीब पहुंच गई. उधर, महाराष्ट्र के कुछ दूसरे इलाकों पर गौर करें तो नांदेड, लातूर, जलगांव, बीड, औरंगाबाद, रत्नागिरी समेत कई अन्य शहरों में पेट्रोल के दाम पहले ही 90 रुपये प्रति लीटर को पार कर चुके हैं. इस बीच लोगों के लिए राहत की बात यह रही कि तेल कंपनियों ने बुधवार को पेट्रोल और डीजल के दामों में कोई वृद्धि नहीं की है.

उधर, तेल के बढ़े दामों के बावजूद नितिन गडकरी ने विश्वास जताया है कि 2019 के आम चुनाव में एक बार नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में चुनाव लड़ते हुए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) केंद्र में सरकार का गठन करेगी. इस दौरान पूछे गए एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, ‘मेरी प्रधानमंत्री बनने की कोई इच्छा नहीं है. मोदी जी हमारे प्रधानमंत्री हैं और हम सभी उनके साथ हैं. आगामी लोकसभा चुनाव के बाद नरेंद्र मोदी ही हमारे प्रधानमंत्री बनेंगे.’