भारतीय जनता पार्टी की तमिलनाडु इकाई की अध्यक्ष तमिलिसाई सुंदरराजन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम नोबेल शांति पुरस्कार के लिए भेजा है. दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य सुरक्षा योजना (आयुष्मान भारत) शुरू करने के लिए उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी को नोबेल शांति पुरस्कार देने की वकालत की है.

द न्यू इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक टी सुंदरराजन के पति डॉक्टर पी सुंदरराजन तमिलनाडु के ही एक निजी विश्वविद्यालय में नेफ्रोलॉजी (किडनी से संबंधित) विभाग के प्रमुख हैं. उन्होंने भी यह योजना शुरू करने के लिए प्रधानमंत्री मोदी को नोबेल शांति पुरस्कार देने का समर्थन किया है. उन्होंने भी एक अलग प्रस्ताव नोबेल पुरस्कार चयन समिति को भेजा है. तमिलनाडु भाजपा की ओर से जारी विज्ञप्ति में इसकी पुष्टि की गई है. इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी और उनकी सरकार का विरोध करने वाले दो लोगों की पिटाई करवाने के कारण सुर्ख़ियों में आईं टी सुंदरराजन ने भी ट्विटर पर अपने प्रस्ताव की जानकारी दी है. उन्होंने लोगों से इसका समर्थन करने की अपील भी की है.

Dr Tamilisai Soundararajan@DrTamilisaiBJP

Please join me in nominating our visionary PM Modiji for Nobel Peace Prize 2019 for Launching the World’s Largest Health Care Program#AyushmanBharat-”Pradhan mantri Jan arogya Yojana “ which ensures access to quality Healthcare services for the underprivileged @PMOIndia @JPNadda

4:39 PM - Sep 24, 2018

ग़ाैरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसी शनिवार को पूरे देश में स्वास्थ्य सुरक्षा योजना ‘आयुष्मान भारत’ शुरू की थी. जिस बड़ी तादाद (लगभग 50 करोड़ लोग) में लोग इस योजना के दायरे में आ रहे हैं उस लिहाज़ से यह दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य सुरक्षा योजना है. हालांकि देश के पांच राज्यों में अभी यह लागू नहीं है कि क्योंकि इन प्रदेशों की सरकारों ने इसे लागू न करने की अपनी-अपनी वज़हें बताई हैं.

हालांकि द टाइम्स ऑफ इंडिया की मानें तो पहले दिन से ही इस योजना ने लोकप्रिय होने के संकेत दे दिए हैं. ख़बर के मुताबिक योजना शुरू होने के पहले 24 घंटे के भीतर ही 1,000 से अधिक लोग इसका फ़ायदा उठा चुके हैं. वहीं जहां तक नोबेल पुरस्कार के लिए प्रविष्टियों का सवाल है तो इन्हें भेजने के लिए 31 जनवरी 2019 आख़िरी तारीख़ है. इसकी नामांकन प्रक्रिया हर साल सितंबर में शुरू हो जाती है.