इलाहाबाद कुंभ मेले की तैयारी में लगी उत्तर प्रदेश सरकार इस दौरान सुरक्षा इंतजामों के लिए ‘विशेष’ प्रकार के पुलिसकर्मियों को ढूंढ रही है. विशेष पुलिसकर्मी कहने की वजह यह है कि राज्य सरकार कुछ शर्तों के साथ पुलिसकर्मियों को खोज रही है. इन शर्तों के मुताबिक कुंभ मेले में तैनात होने वाला पुलिसकर्मी युवा, चुस्त और शाकाहारी होना चाहिए. वह नशा व धूम्रपान न करता हो और मृदुभाषी हो यानी आराम से बात करने वाला हो. इन सब गुणों के अलावा पुलिसकर्मी के पास अच्छे चाल-चलन का प्रमाणपत्र (कैरेक्टर सर्टिफिकेट) भी होना चाहिए.

पहली बार पढ़ने पर यह जानकारी खबर कम और किसी शादी का इश्तेहार ज्यादा लगती है. लेकिन यह सच है. टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक कुंभ के लिए नियुक्त किए गए डीआईजी/एसएसपी केपी सिंह इसकी पुष्टि करते हुए कहते हैं, ‘हमने बरेली, बदायूं, शाहजहांपुर और पीलीभीत के एसएसपी अधिकारियों को केवल उन्हीं पुलिसकर्मियों को प्रमाणपत्र देने को कहा है जो शाकाहारी हों, सिगरेट-शराब न पीते हों और अच्छे से बात करते हों.’ राज्य सरकार यह भी चाहती है कि कुंभ के लिए ऐसे पुलिसवालों को लिया जाए जो इलाहाबाद के न हों. पुलिसकर्मियों की तैनाती के लिए उनकी उम्र की सीमा भी तय की गई है. कॉन्स्टेबल के लिए पुलिसकर्मी की उम्र 35 साल से ज्यादा नहीं होनी चाहिए. हेड कॉन्स्टेबल के लिए 40 और सब-इंस्पेक्टर के लिए 45 वर्ष की आयु सीमा तय की गई है.

मेले के लिए तैनाती की प्रक्रिया अक्टूबर से शुरू हो जाएगी. कहा जा रहा है कि इस बार कुंभ की सुरक्षा के लिए 10,000 सुरक्षाकर्मियों की तैनाती की जाएगी. इसमें पुलिस बल के साथ पैरामिलिट्री के जवान भी शामिल होंगे. अगले महीने से शुरू हो रही यह तैनाती चार चरणों में पूरी होगी. पहले चरण में दस प्रतिशत पुलिसकर्मी तैनात किए जाएंगे. दूसरा चरण नवंबर में शुरू होगा जिसमें 40 प्रतिशत पुलिसकर्मियों को सुरक्षा में लगाया जाएगा. दिसंबर में तीसरे चरण के तहत 25 प्रतिशत और पुलिसकर्मी तैनात होंगे. चौथे चरण के लिए पश्चिमी उत्तर प्रदेश के एसएसपी अधिकारियों को लिखा गया है.