वित्त मंत्री अरुण जेटली ने चीन और अमेरिका के बीच व्यापारिक टकराव समेत पूरे विश्व में जारी ‘ग्लोबल ट्रेड वॉर’ को भारत के लिए एक अवसर बताया है. हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक शुक्रवार को उन्होंने कहा कि यह ट्रेड वॉर शुरूआत में थोड़ी अस्थिरता पैदा कर सकता है, लेकिन थोड़े समय बाद इसकी वजह से व्यापार और विनिर्माण के क्षेत्र में भारत के लिए नए अवसरों के द्वार खुलेंगे. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा, ‘हमें ऐसी स्थितियों को बहुत नजदीक से देखना होता है. पता नहीं कि ये चुनौतियां कब कोई मौेका बन जाएं.’ वित्त मंत्री अरुण जेटली ने पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स के वार्षिक सम्मेलन में ये बातें कही हैं.

विशेषज्ञों का भी यह मानना है कि अमेरिका और चीन के बीच जारी व्यापार युद्ध की वजह से भारत में बनने वाली मशीनों, इलेक्ट्रिक उपकरणों, वाहनों एवं कलपुर्जों, रसायन, प्लास्टिक एवं रबर उत्पादों के लिए अमेरिकी बाजार में जगह बनाना आसान हो सकता है.

इस दौरान जेटली ने यह भी कहा कि वैश्विक बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में हो रही बढ़ोत्तरी अर्थव्यवस्था के लिए चुनौती पैदा कर रही है. हालांकि वित्त मंत्री ने भरोसा जताया कि ऐसी तमाम चुनौतियों के बावजूद भविष्य में भारत के लिए नए मौके पैदा होंगे.