लोक सभा सांसद और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के अध्यक्ष शरद पवार की बेटी सुप्रिया सुले का कहना है कि रफाल विमान सौदे पर उनके पिता द्वारा दिए गए बयान को मीडिया ने गलत तरह से पेश किया है. समाचार एजेंसी एएनआई को दिए एक साक्षात्कर में सुप्रिया सुले ने कहा है, ‘गुरुवार को एक मराठी टेलीविजन चैनल से हुई बातचीत के दौरान शरद पवार ने कहा था कि लोगों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इरादों पर संदेह नहीं है. लेकिन शरद पवार ने तब अपनी नहीं बल्कि लोगों की धारणा की बात कही थी.’ सुप्रिया सुले के मुताबिक शरद पवार के उस बयान को रफाल सौदे में नरेंद्र मोदी को क्लीन चिट देने के तौर पर पेश किया गया जो कि सही नहीं है.

इस दौरान सुप्रिया सुले ने यह भी कहा, ‘अगर किसी को इस बात पर संदेह है तो वे उस बातचीत की रिकॉर्डिंग को फिर से देख सकते हैं.’ उन्होंने आगे कहा, ‘उस बातचीत में एनसीपी अध्यक्ष द्वारा कही तीन प्रमुख बातों को नजरअंदाज कर दिया गया था. इनमें पहली यह कि इस रक्षा सौदे में रफाल विमानों की बढ़ी कीमत को लेकर उन्होंने सरकार से स्पष्टीकरण देने को कहा था. दूसरा, इस सौदे में कथित अनियमितताओं की जांच के लिए उन्होंने संयुक्त संसदीय समिति (जेसीपी) के गठन की मांग की थी, साथ ही तीसरी प्रमुख बात में उन्होंने रफाल विमान और बोफोर्स तोप खरीद के मामले में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) द्वारा दोहरा मापदंड अपनाए जाने की बात कही थी.’

उधर, एनसीपी के महासचिव तारिक अनवर द्वारा शुक्रवार को पार्टी के साथ संसद की सदस्यता से इस्तीफा देने के मुद्दे पर सुप्रिया सुले ने कहा, ‘मैं तारिक अनवर से यह सवाल करना चाहूंगी क्या उन्होंने शरद पवार की उस बातचीत को देखा या फिर सुना था? तारिक अनवर एनसीपी के पुराने व वरिष्ठ नेताओं में से एक हैं. इस्तीफा जैसा अहम फैसला करने से पहले उन्हें एक बार पार्टी अध्यक्ष या फिर मुझसे बात करनी चाहिए थी.’