चिकित्सा के क्षेत्र में इस साल का नोबेल पुरस्कार संयुक्त रूप से अमेरिका के जेम्स पी एलिसन और जापान के तासुकु होंजो को दिया जाएगा. नोबेल पुरस्कार की घोषणा करने वाली समिति ने सोमवार को इसकी घोषणा स्टॉकहोम में की. समिति ने ट्वीट कर बताया कि इन दोनों को कैंसर के इलाज को लेकर इनके शोध के लिए यह पुरस्कार दिया जा रहा है. समिति ने इन दोनों के शोध को ऐतिहासिक बताया है.

डॉयचे वेले की रिपोर्ट के मुताबिक जेम्स पी एलिसन और तासुकु होंजो ने अपने शोध में बताया है कि कैसे शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली कैंसर कोशिकाओं पर हमला कर उन्हें नष्ट करने की क्षमता रखती है. एलिसन ने अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्सास और होंजो ने जापान की क्योटो यूनिवर्सिटी में पता लगाया कि शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली का उपयोग करके प्रतिरक्षा कोशिकाओं को कैंसर की कोशिकाओं पर हमला करने के लिए तैयार किया जा सकता है.

हर साल सबसे पहले चिकित्सा के क्षेत्र में ही नोबेल पुरस्कारों का ऐलान किया जाता है. पिछले साल इस क्षेत्र का नोबेल अमेरिकी वैज्ञानिकों, जेफरी सी हॉल, माइकल रोसबाश और माइकल यंग को दिया गया था. उन्होंने अपने शोध में उन जीनों और प्रोटीनों के बारे में बताया था जो शरीर की आंतरिक जैविक घड़ी (बायोलॉजिकल क्लॉक) के साथ काम करते हैं. वैज्ञानिकों ने बताया था कि इनके जरिये नींद के पैटर्न, ब्लड प्रेशर और खाने की आदतों जैसे कार्यों को नियंत्रित किया जा सकता है.