दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल एक नये कानूनी विवाद में फंसते दिख रहे हैं. इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक उनके खिलाफ दिल्ली में एक एफआईआर दर्ज की गई है. अरविंद केजरीवाल पर आरोप है कि उन्होंने अपने एक ट्वीट के जरिए धर्म और जाति के आधार पर उन्माद फैलाने और भाजपा नेताओं को बदनाम करने की कोशिश की है. यह एफआईआर दिल्ली भाजपा के प्रवक्ता और वकील अश्विनी उपाध्याय की शिकायत के बाद दर्ज की गई है.

अरविंद केजरीवाल का यह ट्वीट शुक्रवार को लखनऊ में एक पुलिसकर्मी की गोली से विवेक तिवारी नाम के एक व्यक्ति की मौत से जुड़ा है. अपने ट्वीट में उन्होंने लिखा था, ‘विवेक तिवारी तो हिंदू था? फिर उसको इन्होंने क्यों मारा’. उन्होंने ट्वीट में आगे भाजपा नेताओं पर हमला बोलते हुए लिखा था, ‘भाजपा के नेता पूरे देश में हिंदू लड़कियों का रेप करते घूमते हैं’.

इसी ट्वीट को आधार बनाते हुए अश्विनी उपाध्याय ने अरविंद केजरीवाल के खिलाफ मामला दर्ज करवाया है. भाजपा प्रवक्ता द्वारा दाखिल शिकायत के अनुसार केजरीवाल ने जानबूझकर अपने ट्वीट के जरिए समाज को धर्म और जाति के आधार पर बांटने और धार्मिक सौहार्द बिगाड़ने का प्रयास किया है. इसके साथ ही उनका यह भी कहना है कि केजरीवाल के इस ट्वीट से 125 करोड़ हिंदुओं की भावनाएं आहत हुई हैं.