केंद्र सरकार ने तेल की बढ़ती कीमतों पर लगाम लगाने के लिए पेट्रोल और डीजल के दामों में प्रति लीटर 2.50 रुपये की कटौती करने की घोषणा की है. द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक गुरुवार को केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने यह घोषणा की है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई एक बैठक के बाद अरुण जेटली ने बताया कि केंद्र सरकार ने तेल में लगने वाले उत्पाद शुल्क में 1.50 रुपये प्रति लीटर की कटौती करने का फैसला लिया है, जबकि एक रुपये प्रति लीटर का बोझ तेल बेचने वाली सरकारी कंपनियां वहन करेंगी.

अरुण जेटली ने इस दौरान बताया कि तेल की कीमतों में बढ़ोतरी अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल में आई तेजी और दूसरे वैश्विक कारणों के चलते हुई है.

वित्त मंत्री ने यह घोषणा करते हुए यह जानकारी भी दी कि उत्पाद शुल्क में कटौती से केंद्र सरकार को 10,500 करोड़ रुपये के राजस्व का नुकसान होगा. इसके साथ ही अरुण जेटली ने राज्य सरकारों से भी इसी अनुपात में बिक्री कर या वैट में कटौती करने का आग्रह किया है. समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक केंद्र सरकार की अपील को स्वीकार करते हुए गुजरात, महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश सरकार ने भी पेट्रोल और डीजल के दामों में 2.50 रुपये की अतिरिक्त कटौती करने की घोषणा की है.