मध्य प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कमलनाथ ने उन परिस्थितियों के बारे में अपनी ओर से सफाई दी है जिनकी वज़ह से बहुजन समाजपार्टी के साथ गठबंधन नहीं हो पाया. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि समाजवादी पार्टी के साथ कांग्रेस के गठबंधन की संभावनाएं अब भी बनी हुई हैं.

कमलनाथ के मुताबिक, ‘बसपा ने जिन सीटों पर अपनी दावेदारी जताई थी उनमें उसके उम्मीदवारों के जीतने की कोई उम्मीद नहीं थी. जबकि जो सीटें वे जीत सकते थे उसे बसपा ने अपनी दावेदारी वाली सीटों की सूची में शामिल ही नहीं किया था. इसीलिए कांग्रेस उसकी मांगों को स्वीकार नहीं कर पाई.’ इसके साथ उन्होंने यह मानने से भी इंकार कर दिया कि गठबंधन न होने की सूरत में बसपा अब कांग्रेस के लिए ख़तरा बन सकती है.

ग़ौरतलब है कि बसपा प्रमुख मायावती ने इसी बुधवार को ही घोषणा की थी कि उनकी पार्टी मध्य प्रदेश और राजस्थान में भी कांग्रेस के साथ गठबंधन नहीं करेगी. बल्कि सभी सीटों पर अकेले लड़ेगी. इससे पहले वे छत्तीसगढ़ में भी कांग्रेस को झटका दे चुकी हैं. वहां वे पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी की पार्टी के साथ गठबंधन कर चुकी हैं. जबकि इससे पहले कहा जा रहा था कि मायावती इन तीनों ही राज्यों में कांग्रेस से गठबंधन करना चाहती हैं.