गुजरात के कई हिस्सों में गैर गुजरातियों के खिलाफ हिंसा की घटनाएं देखने को मिल रही हैं. पुलिस के मुताबिक हिंसा के शिकार लोगों में खास तौर पर बिहार एवं उत्तर प्रदेश के रहने वाले शामिल हैं. पीटीआई ने राज्य के पुलिस महानिदेशक शिवानंद झा के हवाले से बताया है कि पिछले एक हफ्ते में मेहसाना, साबरकांठा, पाटन और अहमदाबाद के अलावा राजधानी गांधीनगर में भी गैर गुजरातियों के खिलाफ हिंसा की घटनाएं अंजाम दी गई हैं. इन घटनाओं के संबंध में अब तक करीब 150 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और राज्य के विभिन्न जिलों में अब तक 18 एफआईआर भी दर्ज की गई हैं.

28 सितंबर को साबरकांठा जिले में 14 माह की एक बच्ची से बलात्कार की घटना सामने आई थी. इस मामले में बिहार के रहने वाले रविंद्र साहू नाम के एक मजदूर को घटना वाले दिन ही गिरफ्तार कर लिया गया था. इसके बाद सोशल मीडिया पर गैर गुजरातियों - खासकर बिहार एवं उत्तर प्रदेश के लोगों - के खिलाफ कई तरह के संदेश प्रकाशित और प्रसारित हुए जिसके बाद राज्य में गैर गुजरातियों पर हमले होने शुरू हो गये.

बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी से फोन पर बातचीत के बाद यह आरोप लगाया है कि बिहार के लोगों पर हमले के लिए ‘कांग्रेस समर्थित संगठन’ जिम्मेदार है. उन्होंने पटना में संवाददाताओं से कहा कि उन्हें गुजरात के मुख्यमंत्री से जानकारी मिली है कि गैर गुजरातियों के साथ हिंसा के लिए कांग्रेस नेता अल्पेश ठाकोर से संबद्ध संगठन ‘ठाकोर सेना’ के भी कई लोगों को गिरफ्तार किया गया है.