महिलाओं के यौन शोषण के मुद्दे पर शुरू किया गया #MeToo कैंपेन सोशल मीडिया से लेकर मीडिया संस्थानों के कार्यालयों तक बहस का विषय बना हुआ है. इस साल की शुरुआत में शुरु हुए इस कैंपेन ने बीते कुछ दिनों से काफ़ी ज़ोर पकड़ा हुआ है. बॉलीवुड अभिनेत्री तनुश्री दत्ता और कंगना रनौत द्वारा लगाए गए आरोपों के साथ अलग-अलग क्षेत्रों की महिलाओं ने भी अपने साथ हुए कथित यौन शोषण के अनुभवों को साझा किया है. उधर, #मीटू के जवाब में #हीटू कैंपेन भी चलाया जा रहा है जो पुरुषों के ख़िलाफ़ यौन शोषण के झूठे आरोपों से जुड़ा है.

इस बीच सोशल मीडिया पर तनुश्री दत्ता का एक वीडियो शेयर किया गया है. इसमें वे कह रही हैं, ‘लोग न थोड़ा झिझकते थे, सीधे-सीधे बोलने में. मैं लोगों को देखती हूं तो मुझे उनकी आंखों से उनकी नीयत का पता चल जाता था. मेरे सामने इस तरह की बात किसी ने रखी नहीं. मुझे लगता है कि उस तरह के लोग मेरे आसपास आए ही नहीं. वे दूर से निकल गए. ऐसा क्यों है, मुझे नहीं पता. लेकिन उस तरह की घटना (यौन शोषण) मेरे साथ नहीं हुई है. मेरे लिए यह ख़ुशी की बात है. क्योंकि मुझे बहुत बुरा लगता और शायद मैं कैरियर शुरू होने से पहले ही छोड़ कर चली जाती.’

तनुश्री के इस इंटरव्यू को पुराना बताकर कहा जा रहा है कि उन्होंने ख़ुद कहा था कि उनका बॉलीवुड में कभी भी शोषण नहीं हुआ. इससे संदेश देने की कोशिश की जा रही है कि नाना पाटेकर को लेकर उनके हालिया आरोप झूठे हैं. लेकिन 45 सेकेंड के इस वीडियो को देख कर साफ़ नहीं होता कि क्या तनुश्री नाना पाटेकर के बारे में ही बात कर रही हैं. यूट्यूब पर सर्च करने पर उनका यह इंटरव्यू मिल जाता है. इसमें वह जिस मुद्दे पर बात कर रही हैं उसका नाना पाटेकर पर लगे आरोपों से कोई संबंध नहीं है. दरअसल इंटरव्यू लेने वाली महिला ने तनुश्री से कास्टिंग काउच के मुद्दे पर सवाल किया था. उसी का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि उन्हें बॉलीवुड में किसी ने इस तरह का प्रस्ताव नहीं दिया था.

Play

नीचे हमने इस पूरे इंटरव्यू का वीडियो शेयर किया है. यूट्यूब पर इसे दो अगस्त, 2018 को अपलोड किया गया था. यानी इसे पुराना बताना भी सही नहीं है. आप इंटरव्यू को (9:34 से) देखें तो साफ़ हो जाता है कि तनुश्री से कास्टिंग काउच को लेकर सवाल किया गया था. पूरे इंटरव्यू में नाना पाटेकर से जुड़ा कोई सवाल नहीं किया गया. वहीं, कास्टिंग काउच के सवाल पर तनुश्री ने अपने लिए कहा कि उन्हें किसी ख़राब अनुभव से नहीं गुज़रना पड़ा. हालांकि आगे की बात में उन्होंने साफ़-साफ़ माना कि बॉलीवुड में कास्टिंग काउच के ज़रिए महिलाओं का यौन शोषण होता है.