श्रीलंका की एकमात्र तमिल महिला मंत्री विजयकला महेश्वरन को प्रतिबंधित अलगाववादी संगठन लिबरेशन टाइगर्स ऑफ तमिल ईलम (लिट्टे) की तारीफ करने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया है. स्क्रोल के मुताबिक पुलिस ने सोमवार को पहले विजयकला महेश्वरन को एक बयान दर्ज करवाने के लिए बुलाया और बाद में उन्हें हिरासत में ले लिया गया. यह जानकारी श्रीलंका के पुलिस प्रवक्ता एसपी रुवान गुणशेखरा ने दी है.

विजयकला महेश्वरन श्रीलंका में सत्तारूढ़ यूनाइटेड नेशनल पार्टी की सांसद थीं. उन्होंने जून में एक कार्यक्रम के दौरान श्रीलंका के उत्तरी प्रांत में कानून-व्यवस्था की बिगड़ती स्थित पर टिप्पणी करते हुए कहा था कि लोगों का मानना है कि लिट्टे के समानांतर प्रशासन के समय वहां स्थितियां ज्यादा बेहतर थीं. इसके बाद सरकार ने उनके खिलाफ जांच के आदेश दे दिए थे. उनके खिलाफ इस आरोप को लेकर जांच की जा रही थी कि उन्होंने लिट्टे की खुलेआम तारीफ करके राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरे में डाला है. वहीं विजयकला ने सफाई देते हुए कहा था कि ये बयान उन्होंने सिर्फ इसलिए दिया क्योंकि उत्तरी प्रांत में महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराध और उनसे निपटने में पुलिस असफल दिख रही है.

इस विवादित बयान को लेकर संसद में हुए हंगामे के बाद विजयकला महेश्वरन ने जुलाई में इस्तीफा दे दिया था.