जम्मू-कश्मीर में शहरी निकाय चुनावों के पहले चरण में कश्मीर घाटी में ठंडी प्रतिक्रिया देखने को मिली. द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक घाटी में सिर्फ 8.3 फीसदी मतदान हुआ. पत्थरबाजी की कुछ घटनाओं को छोड़ दें तो सुबह सात से चार बजे तक चला यह मतदान शांतिपूर्ण रहा. एक अधिकारी के हवाले से पीटीआई ने बताया कि इस चरण में कुल 84692 में से 7057 मतदाताओं ने ही वोट डाले.

उधर, कारगिल और लेह में सबसे ज्यादा मतदान देखने को मिला. कारगिल में 78 फीसदी जबकि लेह में 52 फीसदी मतदाताओं ने अपने वोट डाले. जम्मू में मतदान का आंकड़ा 60 फीसदी से ज्यादा रहा.

राज्य की दो प्रमुख पार्टियों नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी ने इन चुनावों का बहिष्कार किया है. ऐसे में घाटी में भी कई जगह भाजपा का झंडा लहराना तय माना जा रहा है. कश्मीर घाटी के 60 वार्डों में पार्टी ने पहले ही निर्विरोध जीत हासिल कर ली है. नगरीय निकायों के 624 वार्डों के लिए आठ से 16 अक्टूबर के बीच चार चरणों में मतदान होना है.