पाकिस्तान ने अपनी सेना के लिए चीन के साथ उच्च क्षमता और गुणवत्ता वाले 48 ड्रोन (मानवरहित विमान) ख़रीदने का समझौता किया है. चीन के सरकारी समाचार पत्र ग्लोबल टाइम्स ने यह जानकारी दी है.

सत्याग्रह की सहयोगी वेबसाइट स्क्रोल के मुताबिक यह सौदा कितने में हुआ है और ड्रोन पाकिस्तान को कब दिए जाएंगे इस बारे में फिलहाल कोई सूचना नहीं दी गई है. पाकिस्तान और चीन के बीच जिस ड्रोन की ख़रीद के लिए समझौता हुआ है उसका नाम ‘विंग लुंग 2’ है. इसने पहली उड़ान पिछले साल फरवरी में भरी थी. अखबार के मुताबिक पाकिस्तान एयरोनॉटिकल कॉम्पलेक्स और चीनी एविएशन इंडस्ट्री कॉरपोरेशन के साथ मिलकर भविष्य में इस ड्रोन का निर्माण भी करेगी.

चीन के एक रक्षा विशेषज्ञ ने अखबार को बताया है कि यह अब तक का चीन का सबसे बड़ा निर्यात सौदा हो सकता है. खबरों की मानें तो पाकिस्तानी सेना काफी समय से यह ड्रोन खरीदना चाह रही है. भारत और रूस के बीच एस-400 मिसाइल सुरक्षा प्रणाली सौदे पर हस्ताक्षर के बाद चीन ने पाकिस्तान को ड्रोन बेचने की सहमति दी है. बता दें कि भारत ने अमेरिकी प्रतिबंधों को दरकिनार करते हुए रूस के साथ पिछले हफ्ते द्विपक्षीय वार्ता के दौरान एस-400 मिसाइल सुरक्षा प्रणाली खरीद के सौदे पर हस्ताक्षर किए हैं.