गुजरात में हिंदी भाषी प्रवासियों पर हमले के अारोप को लेकर लगातार अालोचना झेल रहे कांग्रेस विधायक अल्पेश ठाकोर ने खुद को निर्दोष बताया है. पीटीआई के अनुसार, उत्तर प्रदेश और बिहार के मुख्यमंत्रियों को लिखे पत्र में उन्होंने कहा कि वे खुद या उनका संगठन हिंदी भाषियों के खिलाफ हिंसा में शामिल नहीं है. इन हमलों से उनका नाम जोड़ना एक राजनीतिक साजिश है.

अल्पेश ठाकुर ने इस चिट्ठी में यह भी लिखा है कि वे केवल बलात्कार की शिकार बच्ची के लिए इंसाफ मांग रहे थे, लेकिन कुछ लोगों ने इसे राजनीतिक रंग दे दिया. ठाकोर ने दावा किया कि उत्तर प्रदेश और बिहार के लोग अफवाहों पर आंख बंदकर विश्वास कर रहे हैं और राज्य छोड़कर जा रहे हैं. उन्होंने इन लोगों पर हमलों को सुनियोजित साजिश बताया.

कुछ दिन पहले गुजरात में 14 महीने की एक बच्ची के साथ दुष्कर्म की वारदात के बाद बिहार के एक मजूदर को गिरफ्तार किया गया था. इसके बाद राज्य के कई इलाकों में बिहार और उत्तर प्रदेश के लोगों के खिलाफ हिंसा भड़क गई थी. राज्य में सत्ताधारी भाजपा ने हिंदी भाषियों के खिलाफ हो रही हिंसा के लिए अल्पेश ठाकोर और उनके संगठन गुजरात क्षत्रिय-ठाकोर सेना को जिम्मेदार ठहराया था. इन हमलों के सिलसिले में दर्ज कुछ एफआईआर में भी ठाकोर सेना का नाम है.