गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर 12 अक्टूबर को गोवा सरकार के सहयोगी दलों के नेताओं के साथ बैठक करेंगे. मनोहर पर्रिकर इस समय दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में भर्ती हैं और एनडीटीवी के मुताबिक यह बैठक एम्स में ही होगी. इस बैठक में गोवा के शासन-प्रशासन संबंधी मुद्दों को लेकर बातचीत होने की उम्मीद की जा रही है. बीते महीने एम्स में भर्ती होने के बाद गोवा की शासन व्यवस्था को लेकर मनोहर पर्रिकर की अध्यक्षता में होने वाली यह पहली बैठक होगी.

इस बीच गोवा के मुख्यमंत्री कार्यालय के एक अधिकारी ने कहा है कि इस बैठक के लिए महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (एमजीपी) के नेता सुदीन धवलीकर, गोवा फॉरवर्ड पार्टी (जीएफपी) के नेता विजय सरदेसाई के अलावा निर्दलीय विधायक गोविंद गावड़े, रोहन खाउंटे और प्रसाद गांवकर को आमंत्रित किया गया है. इस बीच गोविंद गावड़े ने कहा है, ‘दिल्ली में होने वाली बैठक में मुझे आमंत्रित किया गया है, लेकिन इस बैठक का क्या एजेंडा है और मेरे अलावा दूसरे किन लोगों को इसमें बुलाया गया है, इस बारे में फिलहाल मुझे कोई जानकारी नहीं है.’

खबरों के मुताबिक इस बैठक में गोवा सरकार के कैबिनेट मंत्रियों को कुछ अतिरिक्त जिम्मेदारियां सौंपी जा सकती हैं. इससे पहले बीते महीने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष अमित शाह ने भी स्पष्ट किया था कि गोवा में नेतृत्व परिवर्तन नहीं किया जाएगा, लेकिन राज्य कैबिनेट में कुछ फेर-बदल जरूर किए जाएंगे. भाजपा अध्यक्ष के उस बयान के बाद गोवा सरकार ने बीते महीने बीमारी की वजह से शहरी विकास मंत्री फ्रांसिस डिसूजा और बिजली मंत्री पांडुरंग मडकईकर को उनकी जिम्मेदा​रियों से मुक्त कर दिया था. साथ ही उनकी जगह पर मिलिंद नाइक और नीलेश काबराल को इन विभागों का मंत्री बनाया गया था.