‘मी टू’ अभियान के तहत लोगों पर यौन शोषण के आरोपों और उनको लेकर प्रतिक्रियाओं का सिलसिला सोशल मीडिया पर आज भी जारी है. हालांकि इस क्रम में यहां अब सबसे ज्यादा चर्चा केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री और पूर्व पत्रकार-संपादक एमजे अकबर की है. उन पर अब तक कम से कम छह महिला पत्रकार इस तरह के आरोप लगा चुकी हैं. इस वजह से एमजे अकबर आज ट्विटर के ट्रेंडिंग टॉपिक में शामिल हैं. यहां कई लोगों ने उनसे इस्तीफे की मांग की है. पत्रकार शिवम विज का ट्वीट है, ‘एआईबी ढह गया, फैंटम फिल्म्स को खत्म कर दिया गया. जो पत्रकार बड़े पदों पर थे उन्हें भी इस्तीफा देना पड़ा. (यौन उत्पीड़न के आरोपों की वजह से) तो फिर एमजे अकबर को लेकर दिक्कत क्या है? उन्हें कीमत क्यों नहीं चुकानी चाहिए. (अपने किए की)’

इन आरोपों के बाद भी एमजे अकबर से इस्तीफा न लिए जाने के कारण सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा की अगुवाई वाली केंद्र सरकार भी निशाने पर है. ट्विटर हैंडल @UjjavalH पर प्रतिक्रिया है, ‘एमजे अकबर को पद से हटाकर मोदी जी को महिला सशक्तिकरण को लेकर अपनी प्रतिबद्धता जतानी चाहिए...’

सोशल मीडिया में एमजे अकबर पर लग रहे आरोपों को लेकर आई कुछ और प्रतिक्रियाएं :

मनु पंवार | facebook

नाना पाटेकर से आलोक नाथ होते हुए अब एमजे अकबर भी लपेटे में आ गए. अपने हमाम में हम सब MeToo हैं.

पाणिनी आनंद | facebook

भक्त (भाजपा समर्थक) कह रहे हैं कि एमजे अकबर ने जब ये सब किया, तब कांग्रेस की सरकार थी और एनडीए के समय का कोई मीटू हो तो बताइए?

कार्टूनिस्ट कप्तान | facebook

https://www.facebook.com/Kaptancartoonist/posts/1976960635698451

रफाल गांधी | @RoflGandhi_

वैसे तो मुगलों के पीछे पड़े रहते हैं, लेकिन अब अकबर का नाम मिटाने का मौका आया है तो भाजपा वाले कुछ कर ही नहीं रहे.

जेट ली (वसूली भाई) | @Vishj05

भारत के ‘मी टू’ अभियान के दो शिकार
1. एआईबी
2. फैंटम
3. बेटी बचाओ जुमला