‘मी टू’ अभियान को नदियों की सफाई से जोड़ते हुए केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने बुधवार को एक कार्यक्रम में कहा कि गंगा और यमुना की सफाई का मिशन पूरा होने के बाद देश-दुनिया की अन्य नदियां भी ‘मी टू’ का आह्वान करेंगी. इसके साथ ही उन्होंने आगे कहा कि नदी और महिलाओं के आगे बढ़ने में कोई रुकावट नहीं होनी चाहिए.

पीटीआई के मुताबिक, गंगा के लिए न्यूनतम प्रवाह बनाये रखने से संबंधित ( नदी के रास्ते में विभिन्न स्थानों पर इसे सुनिश्चित किया जाएगा) एक सरकारी अधिसूचना का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, ‘नदियों को बचाने के लिए देश में यह एक अहम परिघटना है. यह गंगा और यमुना से शुरू होगी. तब देश और विदेश की अन्य नदियां भी ‘मी टू’ का आह्वान करेंगी यानी मेरे लिए भी आंदोलन शुरू करो.’

इस कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री नितिन गड़करी भी मौजूद थे. उनसे ‘मी टू’ अांदोलन और विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर के इसमें घिरने से संबंधित सवाल पूछा गया तो उन्होंने कोई भी टिप्पणी करने से इंकार कर दिया. उमा भारती ने मी टू आंदोलन का समर्थन किया, लेकिन एमजे अकबर से जुड़े सवाल को उन्होंने भी टाल दिया. ‘मी टू’ आंदोलन यौन उत्पीड़न और यौन हिंसा के खिलाफ एक अभियान है जो सोशल मीडिया पर फैला हुआ है. अब तक देश में विभिन्न क्षेत्रों की कई हस्तियों के नाम ऐसे मामलों में सामने आ चुके हैं.