छत्तीसगढ़ के भिलाई इस्पात संयंत्र में हुए धमाके में मारे गए लोगों के परिवारों को 30-30 लाख रुपए की आर्थिक सहायता दी जाएगी. केंद्रीय इस्पात मंत्री चौधरी बीरेंदर सिंह ने यह घोषणा की है. इसके अलावा जो लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं उन्हें 15-15 लाख रुपए और मामूली रूप से जख़्मी लोगाें को दो-दो लाख रुपए की मदद दी जाएगी.

इस्पात मंत्रालय के बयान के अनुसार मृतकों के परिवारों को कानूनन हर्ज़ाना भी अलग से मिलेगा. यह 33 लाख से 90 लाख रुपए के बीच हो सकता है. ग़ौरतलब है कि भिलाई स्थित भारतीय इस्पात प्राधिकरण (सेल) के संयंत्र में नौ अक्टूबर को धमाका हुआ था. इस हादस में नौ लोगों की मौके पर ही मौत हो गई थी. जबकि अन्य दो ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था. हादसे के अगले ही दिन बुधवार को चौधरी बीरेंदर सिंह ने मौके पर पहुंचकर इसके कारणों को जानने की कोशिश की थी. वे घायलाें की कुशलक्षेम पूछने अस्पताल भी गए थे.

द हिंदू के मुताबिक इस्पात मंत्री ने तुरंत कार्रवाई करते हुए संयंत्र के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) एम रवि को हटा दिया था. उनके अलावा सुरक्षा विभाग के महाप्रबंधक टी पांड्या राजा और ऊर्जा विभाग के उपमहाप्रबंधक नवीन कुमार को निलंबित कर दिया था. इससे पहले दुर्ग रेंज के पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) जीपी सिंह ने मीडिया को जानकारी दी थी कि इस हादसे के लिए संबंधित धाराओं में मामला दर्ज़ कर लिया गया है. इसकी जांच भी शुरू की जा चुकी है. सेल अपनी तरफ से भी चार सदस्यीय समिति से इसकी जांच करा रहा है.