प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने गुरुवार को एयरसेल-मैक्सिस मामले में कांग्रेस नेता पी चिदंबरम के पुत्र कार्ति चिदंबरम की कई संपत्तियां जब्त कर लीं. खबरों के मुताबिक ईडी के अधिकारियों ने बताया कि कार्ति चिदंबरम की ये संपत्तियां भारत, स्पेन और ब्रिटेन में थीं. इनकी कीमत करीब 54 करोड़ रु बताई जा रही है. जब्त की गई इन संपत्तियों में दिल्ली के जोरबाग में एक फ्लैट और बार्सिलोना में एक टेनिस क्लब शामिल है.

उधर, ईडी की इस कार्रवाई पर प्रतिक्रिया देते हुए कार्ति ने एक ट्वीट में इससे संबंधित आदेश को विचित्र बताया है. उन्होंने कहा कि यह केवल सुर्खियां बनाने के लिए किया गया है. कार्ति ने कहा कि जब्ती का ये आदेश कानून के सामने नहीं टिक पाएगा और वे इसे कोर्ट में चुनौती देंगे.

2007 के इस मामले में ईडी ने बीते 13 जून को कार्ति चिदंबरम के खिलाफ चार्जशीट दायर की थी. उसमें पी चिदंबरम का भी नाम शामिल था. वहीं, केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) इस मामले में उन भुगतानों की जांच कर रहा है जो पी चिदंबरम के वित्त मंत्री रहते हुए उनके बेटे कार्ति चिदंबरम को किए गए थे. आरोपों के मुताबिक एयरसेल-मैक्सिस सौदे को मंजूरी दिलाने के एवज में कार्ति चिदंबरम को मोटी रकम दी गई थी. इस दौरान पी चिदंबरम देश के वित्त मंत्री थे. उन पर आरोप है कि उन्होंने एयरसेल-मैक्सिस सौदे को कैबिनेट के सामने रखे बिना ही मंजूरी दे दी थी.