चक्रवाती तूफान ‘तितली’ से आंध्र प्रदेश में आठ लोगों की जान चली गई है. राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एसडीएमए) ने बताया कि चक्रवात से सामान्य जनजीवन ठप हो गया है. श्रीकाकुलम व विजयनगरम जिलों में बड़े पैमाने पर तबाही हुई है. पीटीआई-भाषा के मुताबिक बुधवार देर रात से ही दोनों जिलों में मूसलाधार बाारिश हो रही है. एसडीएमए के मुताबिक गुडिवाडा अग्रहारम गांव में तूफान के चलते पेड़ गिरने से एक 62 वर्षीय महिला की मौत हो गई. वहीं, श्रीकाकुलम जिले के रोतनासा गांव में एक मकान गिरने से 55 वर्षीय व्यक्ति की जान चली गई. वहीं, मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) से आई जानकारी के मुताबिक तूफान से छह मछुआरों की भी मौत हो गई.

सीएमओ ने विज्ञप्ति जारी कर बताया कि पिछले कुछ दिनों में पूर्वी गोदावरी जिले के काकीनाडा स्थित समुद्र में उतरी 67 नौकाओं में से 65 सुरक्षित तट तक लौट आई हैं. बाकी दो नौकाओं को सुरक्षित वापस लाने के प्रयास किए जा रहे हैं. खबर के मुताबिक तेज हवाएं चलने से अलग-अलग इलाकों में 2,000 से ज्यादा बिजली के खंभे उखड़ गए हैं. ईस्टर्न बिजली वितरण कंपनी का कहना है कि श्रीकाकुलम जिले में 4,319 गांवों और छह शहरों में बिजली वितरण तंत्र प्रभावित हुआ है. वहीं, पेड़ों के उखड़ने से चेन्नई-कोलकाता राष्ट्रीय राजमार्ग के यातायात के साथ-साथ जिले के दूरसंचार नेटवर्क पर भी बुरा असर पड़ा है. यहां सड़क नेटवर्क के साथ बागवानी वाली फसलों को भी बड़ा नुकसान पहुंचा हैं.

वहीं, विजयनगरम में धान के खेतों को नुकसान हुआ है. एसडीएमए की प्रारंभिक रिपोर्ट के अनुसार नारियल, केले और आम के पेड़ों को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचा है. उधर, तूफान के चलते पूर्वी तटीय रेलवे के साथ-साथ दक्षिण मध्य रेलवे ने कई ट्रेनों को रद्द कर दिया है और कई ट्रेनों के रूट में बदलाव किया गया है.