कर्नाटक की जेडीएस-कांग्रेस सरकार में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के अकेले मंत्री एन महेश ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. वे प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षा मंत्री थे.

टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक उन्होंने कहा है कि अपने विधानसभा क्षेत्र कोल्लेगल पर ध्यान देने और लोक सभा चुनाव के मद्देनजर पार्टी को और मजबूत करने के मकसद से उन्होंने इस्तीफा दिया है. महेश ने कहा है, ‘मेरे विधानसभा क्षेत्र में मेरे खिलाफ यह प्रचार चल रहा है कि मैं बेंगलुरु में डेरा जमाकर बैठ गया हूं और कोल्लेगल पर ध्यान नहीं दे रहा... इसके अलावा लोक सभा चुनावों को देखते हुए पार्टी को मजबूत करने की भी जरूरत है.’ इसके साथ ही महेश ने कहा है कि उन्होंने निजी कारणों से इस्तीफा दिया है. बसपा नेता के मुताबिक, ‘सरकार में किसी के खिलाफ मुझे कोई शिकायत नहीं है.’

पिछले सप्ताह बसपा प्रमुख मायावती ने घोषणा की थी कि वे मध्य प्रदेश और राजस्थान के आगामी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के साथ गठबंधन नहीं करेंगी. इस मामले पर जब महेश से प्रतिक्रिया मांगी गई थी तब उनका कहना था कि अगर पार्टी प्रमुख कह देंगी तो वे कांग्रेस और जनता दल (सेक्युलर) की गठबंधन सरकार से हट जाएंगे.