भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए अभी से जोर-शोर से लगी हुई है. लेकिन पार्टी के ही सहयोगी उसकी हार की आशंका जता रहे हैं. खबर है कि उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ भाजपा की सहयोगी सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के अध्यक्ष और राज्य सरकार के कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने शनिवार को कहा कि लोकसभा के आगामी चुनाव में भाजपा की पराजय होनी तय है.

पीटीआई के मुताबिक राजभर ने बलिया जिले के रसड़ा कस्बे में स्थित अपने आवास पर संवाददाताओं से बातचीत करते हुए यह बात कही. उन्होंने कहा कि केन्द्र की भाजपा सरकार ने अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति कानून (एससी-एसटी एक्ट) को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को पलट दिया. इसके अलावा उन्होंने मोदी सरकार के कई कदमों विवादास्पद बताया है. राजभर ने कहा कि अगर भाजपा सरकार की ऐसी ही कार्यपद्धति रही तो आगामी लोकसभा चुनाव में इस पार्टी की हार निश्चित है. उन्होंने कहा कि गोरखपुर, फूलपुर और कैराना लोकसभा उपचुनाव से इसका आगाज हो चुका है. सुभासपा के अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा जब एससी/एसटी एक्ट को लेकर सीमा लांघेगी और भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर उर्फ रावण को रिहा करेगी तो ‘लंका दहन’ होना तय है.

वहीं, सूबे की योगी सरकार के कामकाज को लेकर राजभर ने कहा कि अधिकारी वर्ग मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेशों का पालन नहीं कर रहा है. उनके मुताबिक जनता की शिकायतों का भी सही तरीके से निस्तारण नहीं हो रहा है. नौकरशाह शिकायतों को दूर करने के नाम पर केवल खानापूर्ति कर रहे हैं. वहीं, राज्य की कानून व्यवस्था को लेकर पूछे गये सवाल पर उन्होंने पुलिस की कार्यप्रणाली पर प्रश्न खड़े किए. राजभर ने दावा किया कि पुलिस मुठभेड़ के बहुत से दावे फर्जी हैं. उन्होंने बताया कि पुलिस गरीब लोगों को उनके घर या दुकान से उठाती है, उनका दो बार चालान करती है, फिर मुठभेड़ में मार डालती है.