राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के प्रमुख शरद पवार का अनुमान है कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और शिव सेना आगामी लोक सभा चुनाव साथ मिलकर लड़ सकती हैं. हालांकि उनका यह भी कहना है कि जहां तक महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव की बात है तो इस बात की पूरी संभावना है कि दोनों पार्टियां इसे अलग-अलग लड़ें. शिव सेना इस समय केंद्र और महाराष्ट्र में भाजपा की अगुवाई वाली सरकार के साथ है, लेकिन लंबे समय से उसका भाजपा के साथ टकराव चल रहा है. इस साल जनवरी में उसने घोषणा भी की थी कि वह 2019 का चुनाव अकेले लड़ेगी.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक मुंबई में पत्रकारों से बात करते हुए शरद पवार ने लोक सभा और विधानसभा चुनाव एक साथ कराए जाने की संभावना को भी खारिज किया है और कहा है कि ‘अब स्थितियां बदल गई हैं.’

केंद्र सरकार पिछले कुछ समय से देश में लोक सभा और विधानसभा चुनाव एक साथ कराए जाने की संभावना टटोल रही है. इस साल की शुरुआत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोक सभा और विधानसभा चुनाव एक साथ कराए जाने पर व्यापक बहस करने का आह्वान करते हुए दलील दी थी कि इससे काफी धन और समय की बचत होगी.