हरियाणा के पलवल जिले में एक मस्जिद के निर्माण में कथित तौर पर पाकिस्तान स्थित संगठन फलाह-ए इंसानियत फाउंडेशन (एफआईएफ) ने वित्तीय मदद की थी. एफआईएफ 2008 के मुंबई हमले के मुख्य साज़िशकर्ता हाफिज सईद के संगठन जमात-उद-दावा (जेयूडी) द्वारा संचालित किया जाता है. आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) भी जेयूडी का ही हिस्सा है.

द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक यह खुलासा राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने किया है. इस मामले में एनआईए ने तीन लोगों को तीन अक्टूबर को गिरफ्तार किया था. इनमें मस्जिद का इमाम मोहम्मद सलमान और दो अन्य- मोहम्मद सलीम तथा सज्जाद अब्दुल वानी शामिल है. इन सभी से पूछताछ की जा रही है. एनआईए मस्जिद के बैंक खातों की जांच भी कर रही है. एनआईए ने मस्जिद को मिले दान से जुड़े दस्तावेजों को भी जब्त कर लिया है.

अखबार ने एनआईए के अधिकारी के हवाले से बताया है कि सलीम को मस्जिद के निर्माण के लिए एफआईएफ से 70 लाख रुपए मिले थे. इमाम इस संगठन के संपर्क में अपनी दुबई यात्रा के दौरान आया था. अधिकारी ने बताया कि एफआईएफ से इमाम को उसकी बेटियों की शादी के लिए भी पैसा मिला था. रिपोर्ट के मुताबिक एनआईए अब ये जांच कर रही है कि मस्जिद को दान के लिए और कहां-कहां से धन मिला और ये कैसे खर्च किया जा रहा था.