मद्रास हाई कोर्ट ने मंगलवार को 15 नवंबर तक चेन्नई में पटाखों की आॅनलाइन बिक्री पर रोक लगा दी है. एनडीटीवी के मुताबिक जस्टिस एस वैद्यनाथन ने यह फैसला स्वदेश में निर्मित पटाखों की बिक्री करने वाले व्यापारियों के नुकसान और सुरक्षा को देखते हुए सुनाया है. इसके साथ ही उन्होंने चेन्नई के पुलिस आयुक्त और उप मुख्य नियंत्रक (विस्फोटक) के अलावा अन्य सं​बंधित आयुक्तों को इस संबंध में एक नोटिस भी जारी किया है.

इससे पहले तमिलनाडु के शिवकाशी के कुटीर पटाखा उद्योग के 118 सदस्यों के मंडल की तरफ से एम शेख अब्दुल्ला ने पटाखों की आॅनलाइन बिक्री रोकने को लेकर एक याचिका दाखिल की थी. अदालत ने इस पर विचार करने के लिए बीते महीने की 23 तारीख को उनसे पटाखों की आॅनलाइन खुदरा बिक्री पर रोक लगाने के लिए तर्कसंगत वजहें बताने को कहा था. इसके जवाब में याचिकाकर्ता ने विस्फोटकों की आॅनलाइन बिक्री को नियमों व दिशा-निर्देशों के खिलाफ बताया था. साथ ही कहा गया था कि यह स्वदेशी पटाखा उद्योग को नुकसान पहुंचाने वाला कदम है. यह भी कि इनकी डिलिवरी के दौरान सार्वजनिक जीवन खतरा हो सकता है. इसके अलावा एम शेख अब्दुल्ला ने पटाखों की आॅनलाइन बिक्री से इसके नियमित व्यापारियों को होने वाले वित्तीय नुकसान की बात भी कही थी.