‘70 साल से देश में विकास न होने की बात कहकर प्रधानमंत्री ने कांग्रेस का नहीं बल्कि आम लोगों के पूर्वजों का अपमान किया है.’  

— राहुल गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष

राहुल गांधी ने यह बात मध्य प्रदेश में एक चुनावी सभा के दौरान कही. उनके मुताबिक, ‘नरेंद्र मोदी ने लाल किले की प्राचीर से कहा था कि 70 सालों से देश में कोई विकास नहीं हुआ. वाकई अगर यह सच है तो भला अमेरिकी राष्ट्रपति क्यों कहते हैं कि दुनियाभर में आज अमेरिका का मुकाबला सिर्फ भारत और चीन ही कर सकते हैं?’ इस दौरान राहुल गांधी का यह भी कहना था कि जिस दिन से नरेंद्र मोदी गरीबों, किसानों व पिछड़े वर्ग की सुध लेना शुरू कर देंगे, वे प्रधानमंत्री का विरोध करना छोड़ देंगे.

‘एमजे अकबर का इस्तीफा देना एक सही फैसला है.’  

— रामदास अठावले, केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री

रामदास अठावले का यह बयान पूर्व पत्रकार व विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर द्वारा अपने पद से इस्तीफा दिए जाने को लेकर आया है. रामदास अठावले ने यह भी कहा है कि नैतिक मूल्यों के आधार पर कांग्रेस ने उनसे इस्तीफे की मांग की थी. इस्तीफे के बाद अब सही तरह से उनके खिलाफ लगे शोषण व उत्पीड़न संबंधी मामलों की जांच हो सकेगी. उधर, कांग्रेस की प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने अकबर के इस्तीफे को ‘सच की जीत’ बताया है.


‘पुलिस के पास यौन शोषण के बयान को दर्ज कराना, उस दर्द को दोबारा जीने के जैसा था.’  

— विंता नंदा, टीवी लेखक व निर्देशक

विंता नंदा ने यह बात अभिनेता आलोक नाथ द्वारा 19 साल पहले उनके साथ बलात्कार किए जाने के मामले की पुलिस में दी गई शिकायत को लेकर कही है. विंता नंदा ने बुधवार को मुंबई के ओशिवारा पुलिस स्टेशन में इस मामले की शिकायत दर्ज कराई है. इससे पहले ‘मी टू’ अभियान के तहत विंता नंदा ने फेसबुक की एक पोस्ट के जरिये आलोक नाथ पर बलात्कार और उत्पीड़न के आरोप लगाए थे.

‘राष्ट्रपति पद पर रहते हुए मैंने देश और यहां के लोगों के हित देखते हुए फैसले किए.’  

— अब्दुल्ला यमीन, मालदीव के राष्ट्रपति

मालदीव के राष्ट्रपति ने यह बात बुधवार को टेलीविजन के जरिये अपने देश के लोगों को दिए एक संबोधन में कही. अब्दुल्ला यमीन के मुताबिक 17 नवंबर को खत्म होने वाले कार्यकाल को देखते हुए उन्होंने अपने पद से इस्तीफा देने की तैयारियां शुरू कर दी हैं. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि देश के राष्ट्रपति के तौर पर किए गए अपने फैसलों को लेकर उन्हें किसी तरह का कोई अफसोस नहीं है.