अमेरिकी सरकार जल्द ही वीजा नियमों में कुछ ऐसा बदलाव करने जा रही है जिससे भारतीय कंपनियों को परेशानी होने वाली है. एनडीटीवी के मुताबिक ट्रंप प्रशासन एच-1बी वीजा के अंतर्गत आने वाले पेशों और इस वीजा श्रेणी के तहत रोजगार की परिभाषा को बदलने की तैयारी में है. माना जा रहा है कि इन बदलावों से अमेरिकी ग्राहकों के लिए काम कर रही भारतीय आईटी कंपनियों का प्रभावित होना तय है जो एच-1बी वीजा का खूब इस्तेमाल करती हैं. इतना ही नहीं, भारतीय-अमेरिकियों द्वारा चलाई जा रही छोटी और मध्यम वर्ग की आईटी कंपनियों पर भी इसका नकारात्मक असर पड़ेगा. बुधवार को अमेरिका के डिपार्टमेंट ऑफ होमलैंड सिक्योरिटी (डीएचएस) ने बताया कि यह नया प्रस्ताव जनवरी 2019 तक लाया जाएगा.

सत्ता में आने के बाद से ही डोनाल्ड ट्रंप एच-1B वीजा के नियमों को सख्त करने में जुटे हुए हैं. कुछ समय पहले ट्रंप प्रशासन इस वीजा के तहत अमेरिका में रह रहे बाहरी नागरिकों के जीवनसाथ‍ियों से वर्क परमिट छीनने का प्रस्ताव लाया था. इसका कई सांसदों ने विरोध किया था.