‘आरएसएस की शाखाएं बच्चों और विशेष तौर पर लड़कियों की हिफाजत के लिए सुरक्षा ढाल के रूप में काम कर सकती हैं.’  

— कैलाश सत्यार्थी, नोबेल पुरस्कार से सम्मानित सामाजिक कार्यकर्ता

कैलाश सत्यार्थी ने यह बात राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के वार्षिक कार्यक्रम के दौरान संघ के कार्यों की सराहना करते हुए कही. इस मौके पर उन्होंने यह भी कहा कि मौजूदा समय में महिलाएं घर व कार्यस्थल के अलावा सार्वजनिक जगहों पर डर के माहौल में जी रही हैं. इस वजह से लड़कियों ने घरों से निकलना भी बंद कर दिया है. कैलाश सत्यार्थी के मुताबिक युवा नेतृत्व और सामूहिक भागीदारी से ही इस स्थिति में बदलाव लाया जा सकता है. इसके साथ ही उन्होंने आरएसएस कार्यकर्ताओं से भी इन परिस्थितियों में बदलाव लाने की अपील की है.

‘केंद्र सरकार द्वारा कानून बनाकर राम मंदिर निर्माण की मोहन भागवत की मांग संविधान विरोधी है.’  

— असदुद्दीन ओवैसी, आॅल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन

असदुद्दीन ओवैसी का यह बयान राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत के एक बयान पर पलटवार करते हुए आया है. असदुद्दीन ओवैसी के मुताबिक सुप्रीम कोर्ट स्पष्ट तौर पर कह चुका है कि किसी धर्म को लेकर सरकार कोई खास कानून नहीं बना सकती. इसके बावजूद अगर केंद्र सरकार राम मंदिर के निर्माण के लिए कानून बनाना चाहती है तो वह शीर्ष अदालत के आदेश की अनदेखी करना होगा. इससे पहले आरएसएस के वार्षिक कार्यक्रम में संघ प्रमुख मोहन भागवत ने अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए केंद्र सरकार से कानून पारित करने का आग्रह किया था.


‘आगामी चुनाव में राजस्थान की जनता जसवंत सिंह के अपमान का बदला लेगी.’  

— मानवेंद्र सिंह, पूर्व सांसद व कांग्रेस के नेता

मानवेंद्र सिंह ने यह बात हाल ही में कांग्रेस में शामिल होने के बाद भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर निशाना साधते हुए कही. उनके मुताबिक मौजूदा भाजपा पार्टी के भूतपूर्व नेता अटल बिहारी वाजपेयी के संस्कारों से दूर हो चली है. मानवेंद्र सिंह का यह भी कहना है कि देश का नेतृत्व करने के लिए किसी भी नेता में मानवता का होना जरूरी है और इस लिहाज से उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को ‘मानवता का भंडार’ बताया है.


‘सबरीमला मंदिर की परंपरा का सम्मान किया जाना चाहिए.’  

— एचडी कुमारस्वामी, कर्नाटक के मुख्यमंत्री

एचडी कुमारस्वामी का यह बयान केरल के सबरीमला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को लेकर चल रही टकराव की स्थिति को लेकर आया है. उनका कहना है कि मंदिर में प्रवेश को लेकर यह स्थिति परंपराओं से छेड़छाड़ किए जाने से पैदा हुई है. इसके साथ ही एचडी कुमारस्वामी ने यह भी स्पष्ट किया है कि उन्होंने यह बयान कर्नाटक के मुख्यमंत्री की ‘हैसियत’ से नहीं दिया है.


‘सभी राजनीतिक दल अपने संगठन में आंतरिक शिकायत समिति का गठन करें.’  

— मेनका गांधी, केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री

मेनका गांधी ने यह बात महिलाओं को कामकाज के लिए सुरक्षित माहौल उपलब्ध कराए जाने को लेकर गुरुवार को एक ट्वीट के जरिये कही. उनका यह भी कहना है कि यौन उत्पीड़न विरोधी कानून के तहत हर एक राष्ट्रीय और क्षेत्रीय दलों द्वारा आंतरिक शिकायत समिति (आईसीसी) का गठन करना अनिवार्य है. हालांकि भाजपा और कांग्रेस जैसे देश के दो प्रमुख राष्ट्रीय दलों में अब तक इस व्यवस्था को नहीं लागू किया गया है.


‘मी टू मुहिम ने देश और महिलाओं की छवि खराब की है.’  

— पॉन राधाकृष्णन, केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री

पॉन राधाकृष्णन ने यह बात वर्षों पहले की घटनाओं को लेकर महिलाओं द्वारा लगाए जा रहे यौन शोषण व उत्पीड़न के आरोपों को गलत ठहराते हुए कही है. इसके साथ ही ‘मी टू’ अभियान को उन्होंने विकृत मानसिकता वाले लोगों के बर्ताव का नतीजा भी बताया है. उधर, देश में कुछ समय पहले से शुरू हुए इस अभियान के तहत अनेक महिलाएं टीवी व फिल्म जगत के साथ लेखन, राजनीति, मीडिया जैसे क्षेत्रों से जुड़ी कई हस्तियों पर यौन शोषण व उत्पीड़न के आरोप लगा चुकी हैं.