राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत ने केंद्र सरकार से अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए संसद से कानून पारित कराने की अपील की है. इस खबर को आज के अधिकतर अखबारों ने पहले पन्ने पर जगह दी है. महाराष्ट्र के नागपुर स्थित संघ मुख्यालय में विजयादशमी के मौके पर उन्होंने कहा, ‘राम मंदिर का निर्माण भारतीय समाज में सद्भाव, भाईचारे के साथ एकता के लिए आवश्यक है.’ मोहन भागवत ने इसके आगे कहा कि राम मंदिर निर्माण से जुड़े मामले को अदालत में लटकाए रखने के लिए कुछ वर्गों ने योजना बनाई हुई है. इससे पहले विश्व हिंदू परिषद (विहिप) ने भी सरकार से एेसी ही अपील की थी. ऐसा न होने पर विहिप ने छह दिसंबर, 2018 को फिर से कार सेवा शुरू करने की चेतावनी दी थी.

धर्म आधारित राजनीति करने के लिए कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार ने अपनी ही पार्टी को घेरा

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता डीके शिवकुमार ने इस साल कर्नाटक विधानसभा चुनाव से पहले लिंगायत समुदाय को धर्म के आधार पर अल्पसंख्यक का दर्जा देने को पार्टी की बड़ी भूल बताया है. अमर उजाला की खबर के मुताबिक उन्होंने कहा, ‘धर्म के आधार पर राजनीति किसी भी स्थिति में स्वीकार नहीं है. राजनीतिक दलों और सरकार को धर्म-जाति से जुड़े मामलों में दखल नहीं देना चाहिए. हमारी पार्टी ने यह अपराध किया है. मैं इसके लिए माफी मांगता हूं.’ डीके शिवकुमार सूबे की जनता दल- धर्मनिरपेक्ष और कांग्रेस की गठबंधन सरकार में जल संसाधन विभाग की जिम्मेदारी देख रहे हैं.

कर्नाटक : महाबलेश्वर मंदिर में ड्रेस कोड लागू

कर्नाटक के गोकर्ण स्थित महाबलेश्वर मंदिर में श्रद्धालुओं की पोषाक पर कुछ प्रतिबंध लगाए गए हैं. नवभारत टाइम्स की खबर के मुताबिक मंदिर प्रशासन ने श्रद्धालुओं के जींस-पैंट, पायजामा और बरमूडा शॉर्ट्स पहनकर आने पर रोक लगा दी है. यानी अब पुरुष श्रद्धालुओं को केवल धोती पहनने की अनुमति होगी. वहीं, महिलाएं सलवार सूट और साड़ी पहनकर महाबलेश्वर मंदिर में प्रवेश कर सकेंगी. मंदिर के कार्यकारी अधिकारी एच हलप्पा ने बताया कि इस ड्रेस कोड को एक महीने पहले ही लागू किया जा चुका है. मंदिर परिसर में शर्ट, हैट, कैप और कोट पहनकर प्रवेश करने की भी इजाजत नहीं दी जाएगी.

श्रीलंका सरकार ने चीन के साथ सौदा रद्द किया, भारत से समझौता किया

श्रीलंका ने प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे के नई दिल्ली दौरे से पहले चीन के साथ एक बड़ा सौदा रद्द कर दिया है. अब यह काम भारतीय कंपनी के सहयोग से किया जाएगा. दैनिक जागरण की खबर के मुताबिक बीते अप्रैल में चीन की एक कंपनी को श्रीलंका के जाफना इलाके में 40,000 घर बनाने के लिए 2200 करोड़ रुपए का ठेका मिला था. हालांकि, जाफना में रहने वाले तमिल समुदाय ने इसका विरोध कर दिया. वे ईंटों से बने हुए मकान चाहते थे, जबकि चीनी कंपनी कंक्रीट के मकान बना रही थी. अब श्रीलंका सरकार के प्रवक्ता रजीता सेनारत्ने ने बताया कि जाफना में मकान बनाने के लिए नए प्रस्ताव के तहत भारतीय कंपनी के सहयोग से 28,000 मकान बनाए जाएंगे. यह परियोजना करीब 1500 करोड़ रुपए की होगी. यह भी ग़ौरतलब है कि रानिल विक्रमसिंघे बीते गुरुवार को नई दिल्ली पहुंचे हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ उनकी मुलाकात शनिवार को होने वाली है

राजस्थान : जीका वायरस से प्रभावित मरीजों की संख्या 100 तक पहुंची

राजस्थान में बीते 26 दिनों के दौरान जीका वायरस से प्रभावित मरीजों की संख्या 100 तक पहुंच गई है. द टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक गुरुवार को छह लोगों में इसके लक्षण पाए गए हैं. वहीं, राज्य स्वास्थ्य विभाग का दावा है कि इन 100 में से 80 मरीजों की स्थिति में सुधार है. बताया जाता है कि जीका से प्रभावित मरीजों में राजस्थान पुलिस अकादमी (आरपीए) का एक जवान भी है. इसे देखते हुए विभाग के सचिव स्तर के अधिकारी ने अकादमी और पुलिस आवासों की जांच की. वहीं, मुख्य सचिव डीबी गुप्ता ने अगल-अलग विभागों की बैठक बुलाई. साथ ही, जीका वायरस से बचाव के लिए अभियान चलाने के निर्देश दिए.